09 मिनट लाइट बुझाने की बेवकूफी में कही देश की संपत्ति को बर्बाद न कर बैठें लोग

पीएम मोदी ने पूरे देश से आज राज नौ बजे नौ मिनट के लिए घरों की लाइट बंद करने की अपील की है. अधिकांश लोगों को लग रहा है कि पीट पीट कर थाली फाड़ने के बाद अब लाइट बुझा कर दिया जलाने से बचा खुचा कोरोना भाग जाएगा. थाली के बाद दिया जलाने की घोषणा के बाद से ही भक्तजनों में उत्साह का माहौल देखा जा रहा है. तैयारियां पूरी की जा चुकी है.

अब तरह तरह से दिये और मोमबत्ती का करतब देखने की बारी है लेकिन क्या आपको पता है कि इस बेवकूफी की वजह से देश के पॉवर सिस्टम को कितना बड़ा नुकसान पहुंच सकता है.

अगर 130 करोड़ लोग एक साथ लाइट बंद कर देते हैं और 09 मिनट बाद एक साथ चालू कर देते हैं तो देश भर में ब्लैक आउट का खतरा पैदा हो सकता है. उर्जा विभाग के एक अधिकारी के अनुसार इस ब्लैक आउट के खतरे को इस तरह से समझा जा सकता है कि मान लिजिए कि

तेज स्पीड से एक कार चल रही हो और अचानक से तेजी से ब्रेक लगाकर एक दम एक्सीलेटर जैसा होगा. अब आप अंदाज लगाइए कि ऐसी स्थिति में कार का क्या हाल होगा, वही हाल पॉवर सिस्टम का होगा.

हालात से निपटने के लिए तैयारियां शुरु

हालांकि बिजली विभाग ने मोदी की इस घोषणा के बाद के लिए तैयारियां शुरु कर दी है. 05 अप्रैल यानी आज की रात को अगर सभी 130 करोड़ भारतीय पीएम मोदी के निर्देशों का पालन करते हुए एक साथ रात नौ बजे अपने अपने घरों की बिजली बंद कर देते हैं तो देश भर में अंधेरा छा सकता है.

यह नौ मिनट भारतीय उर्जा विभाग के लिए किसी चुनौती से कम नहीं होगी लेकिन बावजूद इसके उर्जा विभाग के एक वरिष्ठ अभियंता का मानना है कि कई लोग इस अपील को नहीं सुनेंगे. वो अपने घर की लाइट बंद नहीं करेंगे. इसके साथ गलियों की स्ट्रीट लाइटें भी जलती रहेंगी लेकिन 10वें मिनट में क्या होगा?

यह देखना काफी दिलचस्प रहेगा क्योंकि दसवें मिनट में एक ही साथ कई घरों की बिजली अचानक से चालू हो उठेगी.

Source: amarujala

Leave a Comment