बड़ी खबर: प्रधानमंत्री आवास योजना में 14000 करोड़ का फर्जीवाड़ा, CBI ने किया खुलासा

दिल्ली: बीते बुधवार को सीबीआई ब्रांच ने, प्रधानमंत्री आवास योजना से जुड़े एक बहुत बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा किया है. इस मामले में मीडिया में आ जाने के बाद, इसमें फर्जीवाड़ा करने वाले प्रमोटर और उनके साथ जुड़े लोगों में खलबली मच गई है. हालांकि प्रधानमंत्री आवास योजना में इस बात की भनक तो काफी पहले से लग चुकी थी कि यहाँ पर कुछ सही नहीं चल रहा है, कई शिकायतें मिल रही थी.

इसके बाद इस मामले को CBI को दिया गया, और हर पहलू से उसकी जांच भी चल रही थी. लेकिन मामला बड़ा होने की वजह से इसकी जांच में थोडा लंबा समय लग गया, और आखिरकार कुछ चेहरे बेनकाब हुए और अब इनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया गया है. इस मामले में दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (डीएचएफएल) के प्रमोटरों का  आ रहा है.

मुंबई की ब्रांच में किया गया प्रधानमंत्री आवास योजना में घो’टाला

PM Awas Yojna me DHFL Ne Kiya Ghotala

पुलिस ने (डीएचएफएल) के प्रमोटरों कपिल वधावन और धीरज वधावन के खिलाफ केस दर्ज किया है. आपको बता दें कि ये दोनों भाई भी है. इन लोगों पर इस समय पैसों के मामले में धो’खाध’ड़ी और मनी लॉ’न्ड्रिंग का आरोप लगा, जिसके बाद ये लोग अब जेल की सलाखों के पीछे हैं.

मीडिया में ख़बरों के मुताबिक, सीबीआई ने बताया है कि कपिल और धीरज ने तकरीबन 14,000 हज़ार करोड़ रुपये से भी ज्यादा संपत्ति के ‘फर्जी और काल्पनिक’ होम लोन मंजूर किए हैं. इन सभी लोन पर पर प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत सरकार द्वारा 1,880 करोड़ रुपये की सब्सिडी ब्याज के रूप में हासिल की हुयी है.

सीबीआई ने बताया है कि दिसंबर, 2018 में डीएचएफएल ने अपने निवेशकों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 88,651 घरों के लिए ऋण जारी करने और इन सबके बदले में देश की सरकार से 539.4 करोड़ रुपये की ब्याज सब्सिडी ली गयी है.

डीएचएफएल कंपनी ने अपने निवेशकों से 1347.8 करोड़ रुपये की सब्सिडी बकाया होने के बारे में बोला था. हालांकि ये सब कुछ जब पता लगा जब इसकी सही तरीके से डेप्थ में जाकर ऑडिट की गयी.

इस बात का खुलासा यहीं से हुआ कि कपिल और धीरज इन दोनों ने 2.6 लाख गृह के लिए जो ऋण खाते खोले हैं वो फर्जी थे.

इन लोगों ने इनमें से ज्यादातर खाते, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत खोले गए और उन पर उन सभी नियमों के अनुसार ही ब्याज सब्सिडी का दा’वा किया गया. इन्होने यह सारा काम हेरा फ्हेरी का मुंबई के बांद्रा स्थित डीएचएफएल शाखा में ही किया.

दिल्ली (नोएडा) के रहने वाले ज़ुबैर शैख़, पिछले 10 वर्षों से भारतीय राजनीती पर स्वतंत्र पत्रकार और लेखक के तौर पर कई न्यूज़ पोर्टल और दैनिक अख़बारों के लिए कार्य करते हैं।