मुंबई में फ्री कश्मीर के पोस्टर दिखाने वाली लड़की को मिला शिवसेना का समर्थन

मुंबई में फ्री कश्मीर के पोस्टर दिखाने वाली लड़की को मिला शिवसेना का समर्थन

दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में रविवार को हुए ह’मले के विरोध में मुंबई में प्रदर्शन के दौरान एक लड़की ने फ्री कश्मीर का पोस्टर लहरा रही थी। ये लड़की मराठी है। इस लड़की से जब पत्रकार ने सवाल किया की आप फ्री कश्मीर का पोस्टर क्यों लहरा रही है तो लड़की ने जवाब दिया कि हम कश्मीरियों के दर्द को समझते हैं और इसी लिए ये पोस्टर हम लहरा रहे हैं।

इस मामले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना पर निशाना साधा था। अब फडणवीस के इस निशाने पर शिवसेना ने अपने मुख्य पत्र सामना के संपादकीय में लिखा कि उस पोस्टर से विपक्ष के नेता हैरान रह गए और उनमें राष्ट्रवाद का भाव जाग उठा। उन्होंने मुख्यमंत्री से पुछा था कि उनकी नाक के नीचे इस तरह के राष्ट्र विरोधी गतिविधियां कैसे संभव हुई।

यह आरोप इतना तुच्छ है कि इससे विपक्ष के नेता हंसी के पात्र बन गए। यह राज्य के लिए अच्छा नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा हमें विपक्ष के लिए चिंता हो रही है। कश्मीर के हक को लेकर लड़की द्वारा पोस्टर लगाए जाने के सवाल पर संपादकिये में यह लिखा गया कि मुंबई की मराठी महिला कश्मीरियों के दर्द को समझती है।

लेकिन विपक्ष इसे दे’शद्रो’ह मानता है। गैरजिम्मेदारी का इससे खराब उदाहरण और कुछ नहीं हो सकता। बीजेपी पर नि’शाना करते हुए शिवसेना ने लिखा कि अगर विपक्ष और उनके समर्थक को बेखौ’फ होकर खुद को अभिव्यक्त करना देशद्रोह लगता है तो यह उनके और देश के लिए अच्छा नहीं है। शिवसेना ने आगे लिखा कि वह विपक्ष के दर्द को समझते हैं।

उनको अपने जख्मों पर बा’म लगा लेना चाहिए। महक प्रभु के स्पष्टीकरण के बाद विपक्ष को मुंह की खानी पड़ी। बता दें कि जेएनयू ह’मले के विरोध के दौरान प्रदर्शन में फ्री कश्मीर के बैनर को लेकर बीजेपी ने आपत्ति दर्ज करते हुए इस दे’शद्रो’ह बताया था । जिसके बाद सत्तारूढ़ पार्टी और विपक्ष ने एक दूसरे के उपर निशाना साधा। शिवसेना ने कहा मराठी लड़की कश्मीरियों के दर्द को समझती है।

Leave a Comment