‘हिज्बुल मुजाहिदीन’ से संबंध रखने के आरोप में बीजेपी से जुड़ा शख्स गिरफ्तार, आ’तंकि’यों को मुहैया कराता था ह’थियार

आतंकियों को हथियार मुहैया कराने के आरोप में राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने जम्मू-कश्मीर के एक राजनेता को गिरफ्तार किया है. NIA ने इस राजनेता को खूं.खा.र आ.तं.की संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन से संपर्क होने के शक में गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किया गया शख्श शोपियां जिले के वांची गांव के ग्राम प्रधान भी हैं. और साल 2014 में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के टिकट पर विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं।

जनसत्ता की खबर के अनुसार, साल 2014 में चुनाव के दौरान श्रीनगर में हुई एक रैली में वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंच पर भी नजर आया था हालांकि गिरतार हो ने के बाद पार्टी का बयां आया है. जम्मू-कश्मीर बीजेपी की तरफ से साफ कहा गया है कि मीर को 2 साल पहले पार्टी से निकाल दिया गया था और उनके आ’तं’की संगठन से कनेक्शन का पार्टी से कोई लेना देना नहीं है।

आपको बता दें आ’तं’कि’यों को ह’थि’या’र मुहैया कराने के आरोप में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बीजेपी से जुड़े पूर्व सरपंच तारिक़ अहमद मीर को गिरफ़्तार किया है. बताया जा रहा है कि मीर आ’तं’कि’यों की मदद करने के आरोप में निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह का सहयोगी है।

वही दविंदर सिंह से पूछताछ में ही तारिक़ अहमद मीर का नाम सामने आया था. जिसके बाद उसे शोपियां स्थित उसके निवास से गिरफ़्तार किया गया गिरफ्तारी के बाद मीर को 7 दिन की पुलिस रिमांड पर जम्मू ले जाया गया है. यहां एनआईए के अधिकारियों की एक विशेष टीम उससे पूछताछ कर उसके और डीएसपी के संबंधों की जांच करेगी।

एनआईए के मुताबिक़, मीर निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह के संपर्क में था. हालांकि मीर ने इस बात से इनकार किया है कि वो दविंदर सिंह को जानता है। लेकिन उसने इस बात को स्वीकार किया है कि वो दविंदर सिंह के साथ पकड़े गए हिज्बुल आ.तं.कवा.दी क.मांडर नावेद बाबू को जानता था।

आपको बता दें कि 11 जनवरी को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने डीएसपी दविंदर सिंह को उस समय श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर गिरफ्तार किया था जब वह अपने साथ आ’तं’की नावेद बाबू, रफी अहमद और इरफान अहमद को जम्मू ले जा रहा था।

दविंदर सिंह श्रीनगर एयरपोर्ट पर एंटी हाइजैकिंग विंग में था। उसकी गिरफ्तारी के बाद एनआईए ने कई जगहों पर दबिश देकर गिरफ्तारियां की थीं।

Leave a Comment