अब बाबरी नहीं, इस नाम पर होगा अयोध्या में बनने वाली मस्जिद का नाम

अयोध्या की विवादित जमीन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राम मंदिर के निर्माण के लिए हिन्दू पक्ष को दे दी गई थी. इसी के साथ 5 अगस्त को भूमि पूजन करके मंदिर निर्माण की शुरुआत भी कर दी गई हैं. सुप्रीम कोर्ट ने अब आदेश में मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ जमीन मुस्लिम पक्ष को देने के निर्देश सरकार को दिए थे. मंदिर का निर्माण कार्य शुरू होने के साथ ही अब मस्जिद को लेकर ही तैयारियां तेजे होने लगी हैं.

इसी के साथ मस्जिद का नाम भी लगभग तय कर लिए जाने की खबर हैं. बताया जा रहा है कि अयोध्या शहर के बाहर दी गई 5 एकड़ जमीन पर बनने वाली इस मस्जिद का नाम बाबर के नाम पर नहीं रखा जाएगा बल्कि इस मस्जिद को उस नाम से जाना जाएगा जहां पर यह बनने जा रही हैं.

Dhannipur

इसे लेकर मस्जिद निर्माण की प्रक्रिया पर काम कर रहे ट्रस्ट ने कहा कि वह इस बार किसी भी तरह के विवाद में नहीं फंसना चाहते हैं, इसी को देखने हुए अब मस्जिद का नाम किसी भी क्रू’र शासक के नाम पर नहीं होगा.

सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की तरफ से गठित इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सचिव अतहर हुसैन ने बताया कि अयोध्या के रौनाही कस्बे के धन्नीपुर में मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ जमीन सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर दी गई है. ऐसे में अब धन्नीपुर में ही मस्जिद का निर्माण करने पर काम किया जा रहा हैं.

उन्होंने बताया कि मस्जिद का नाम धन्नीपुर गांव के नाम पर ही रखा जाएगा. उन्होंने कहा कि पहले मस्जिद के नामों के लिए अमन मस्जिद और सूफी मस्जिद के नाम पर भी विचार किया गया लेकिन ट्रस्ट ने मस्जिद का नाम धन्नीपुर गांव के नाम पर ही रखा जाएगा.

धन्नीपुर में बनने वाली मस्जिद को लेकर जानकारी मिली हैं कि जल्द ही इसका निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा. इसलिए लिए 2 बैंक खाते भी खोले जाएंगे. इन खाते के द्वारा मस्जिद निर्माण के लिए चंदे की राशि जमा की जाएगी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इसमें से एक खाता मस्जिद निर्माण के लिए होगा. वहीं दुसरे खाते में जमा होने वाले चंदे से मस्जिद के आसपास हॉस्पिटल, सामुदायिक रसोईघर और शैक्षणिक केंद्र स्थापित किये जाएगें. इसे लेकर बोर्ड ने बताया कि मेड़बंदी का काम शुरू हो गया हैं और मस्जिद निर्माण का कार्य आने वाले 3 महीनों में शुरू हो जाएगा.

साभार- नवभारत टाइम्स