फिरोजाबाद में सीएए विरोध प्रदर्शन में गो'ली लगने वाले अबरार की मौ'त, यूपी म'रने वालों की संख्या हुई...

फिरोजाबाद में सीएए विरोध प्रदर्शन में गो’ली लगने वाले अबरार की मौ’त, यूपी म’रने वालों की संख्या हुई…

नई दिल्ली: बीते साल 20 दिसंबर नागरिकता संशोधन कानून को लेकर फिरोजाबाद में विरोध प्रदर्शन के दौरान गो’ली लगने के कारण 26 वर्षीय मोहम्मद अबरार घायल हो गया था। जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया जहाँ बीते 9 जनवरी को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वो वापस फिरोजाबाद अपने घर आ गया था। रविवार रात अबरार की मौ’त हो गई।

आपको बता दें उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध प्रदर्शनो के दौरान म’रने वालों की संख्या 22 हो गई है। वहीं अगर पुरे देश की बात करें तो नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के हिं’सक विरोध प्रदर्शनो में अभी तक 32 से भी ज्यादा लोगो की मौ’त हो चुकी है। वही कई लोग घायल है।

26 वर्षीय दिहाड़ी मजदूर मोहम्मद अबरार अपने परिवार का भरन पोषण करने वाला इकलौता था

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, दिहाड़ी मजदूर मोहम्मद अबरार को पहले आगरा के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था और फिर दिल्ली भेज दिया गया था. दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में उसका ऑपरेशन किया गया था. उसकी रीढ़ की ह’ड्डी में गो’ली लगी थी। अबरार के परिवार में उनके अलावा उनकी पत्नी और एक बेटा है जो छह साल का है।

वही अबरार के भाई के मुताबिक उन्होंने कहा की जब दिसंबर में जब मेरे भाई को गो’ली मा’री गई थी। तब वह घर आ रहा था। वहां के लोगों ने बताया की पुलिस के द्वारा उन्हें गो’ली मा’री गई है। अबरार की मौ’त के बाद अबतक फिरोजाबाद में म’रने वाले लोगों की संख्या सात हो गई है।

अबरार के इलाज के लिए पड़ोसियों और रिश्तेदारों से पैसा लिया था

अबरार के भाई ने कहा कि हमें अस्पताल में बताया गया कि अबरार कमर के नीचे से पुरा शरीर ल’कवाग्र’स्त हो गया है। लेकिन उसे बचा लिया गया है। अबरार ने अपने भाई को बताया कि वह प्रदर्शन में नहीं शामिल था। जब गो’ली लगी तब वो एक नाली में गिर गया था। कुछ लोगों ने उसे बाहर निकाला था।

आपको बता दें अबरार अपने परिवार का भरन पोषण करने वाला इकलौता था। उसके भाई ने कहा कि अबरार के इलाज के लिए आसपास के लोगों व रिश्तेदारों से 40 हजार रूपया कर्ज लिए थे। अब उसके परिवार को कौन देखेगा।

Leave a Comment