शहरों के बाद अब हज हाउस का नंबर- लखनऊ, वाराणसी और गाजियाबाद हज हाउस का नाम बदलने का भेजा गया प्रस्ताव

उत्तर प्रदेश सरकार ने लखनऊ, वाराणसी और गाजियाबाद के हज हाउस के नाम बदलने का प्रस्ताव किया है|इस प्रस्ताव में लखनऊ में स्थित मौलाना अली मियां हज हाउस का नाम बदलकर पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखने की मांग की गयी है| इसके लिए हज कमेटी ने शासन को एक प्रस्ताव बनाकर भेज दिया है। जल्द ही इसे कैबिनेट की बैठक में रखा जाएगा उसके बाद इसका नाम बदलकर डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम हज हाउस हो जाएगा।

जानकारी के मुताबिक़ हज कमेटी ने इसके अलावा वाराणसी और गाजियाबाद के हज हाउस का नाम भी शहनाई वादक बिस्मिल्लाह खां और देश के प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद के नाम पर किए जाने का प्रस्ताव भी भेजा है।

आपको बता दें कि अभी लखनऊ के हज हाउस का नाम मौलाना अली मियां के नाम पर है। जिसको लेकर अल्पसंख्यक कल्याण एवं हज राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने कहा कि हज हाउस का नामकरण महापुरुषों के नाम पर किया जाना चाहिए। इन महापुरुषों से आम लोगों और युवाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है। उनके जैसा कुछ कर गुजरने का जज्बा भी पैदा होता है|

साथ ही उन्होंने बाकी अन्य हज हाउस की जानकारी देते हुए कहा कि जहां लखनऊ के हज हाउस का नाम बदलने का प्रस्ताव तैयार हो गया है, वहीं वाराणसी और गाजियाबाद के हज हाउस नए बने हैं। उनका नाम भी मशहूर हस्तियों के नाम पर रखने का निर्णय लिया गया है।

जानकारी के लिए बता दें कि हज समिति का यह प्रस्ताव अब कैबिनेट में जाएगा जिसके मुताबिक़ इस प्रस्ताव पर अंतिम मुहर कैबिनेट की ही लगाई जाएगी| इसके बाद तीनों का नामकरण कर डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम हज हाउस, शहनाई वादक बिस्मिल्लाह खां, प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद रख दिया जायेगा|

साभारः #DainikBhaskar