बड़ी खबर: डॉ कफील खान को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिया तुरंत रिहाई का आदेश, भड़काऊ भाषण के आरोप में हुए थे गिरफ्तार

लखनऊ: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉक्टर कफील खान को तुरंत रिहा करने के आदेश दिए हैं. गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज के प्रवक्ता और बालरोग विशेषज्ञ डॉक्टर कफील खान को CAA, NRC और NPA के विरोध के दौरान अलीगढ़ विश्वविद्यालय में 13 दिसंबर 2019 को कथित रूप से भड़काऊ भाषण देने के आरोप में यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

कोर्ट ने NSA के तहत डॉक्टर कफील को हिरासत में लेने और हिरासत की अवधि को बढ़ाए जाने को गैरकानूनी करार दिया. दरअसल, डॉ.कफील पर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी को लेकर भड़काऊ भाषण देने के मामले में रासुका के तहत कार्रवाई की गई थी।

डॉ.कफील को रासुका में निरुद्ध किए जाने को लेकर चुनौती दी गई थी। डॉ कफील की मां नुजहत परवीन की ओर से बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की गई थी. डीएम अलीगढ़ ने नफरत फैलाने के आरोप में डॉ. कफील पर रासुका लगाया था पिछले कई महीनों से कफील खान जेल में बंद है। डॉ. कफील खान भड़काऊ भाषण देने के आरोप में मथुरा जेल में बंद हैं।

हाल ही में उनकी हिरासत 3 महीने के लिए बढ़ा दी गई थी। पिछले करीब 6 महीने से रासुका के तहत कफील खान मथुरा जेल में बंद हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 की धारा 3 (2) के तहत 13 फरवरी 2020 को कफील खान को अलीगढ़ जिला मजिस्ट्रेट के आदेश पर निरुद्ध किया गया है।

डॉक्टर कफील गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 2017 में ऑक्सीजन की कमी लेकर घटित दुर्घटना के बाद सुर्खियों में आए थे। इस घटना में ऑक्सीजन सिलेंडरों की कमी के चलते कई बच्चों की मृत्यु हो गई थी।

शुरुआत में आपात स्थिति में ऑक्सीजन सिलेंडरों की व्यवस्था कर बच्चों की जान बचाने को लेकर उनकी सराहना हुई, लेकिन बाद में 9 अन्य डॉक्टरों और कर्मचारियों के साथ उन पर कार्रवाई हुई। हालांकि बाद में सभी को जमानत मिल गई थी।

बीआरडी की इस घटना के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सीएम योगी आदित्‍यनाथ को पत्र लिखा था। इस पत्र में प्रियंका ने कफील को न्‍याय दिलाने में उनकी पूरी मदद करने का अनुरोध किया है।

प्रियंका ने अपने लेटर में लिखा था, ‘मुख्‍यमंत्री महोदय, इस पत्र के माध्‍यम से डॉक्‍टर कफील खान का मामला आपके संज्ञान में लाना चाहती हूं। ये अब तक लगभग 450 से ज्‍यादा दिन जेल में गुजार चुके हैं। डॉ. कफील ने कठिन परिस्िथतियों में निस्‍वार्थ भाव से लोगों से लोगों की सेवा की है।