अमेरिका में शुरू हो गई है राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग, जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें

कोरोना महामारी के बीच आज अमेरिका में नए राष्‍ट्रपति का चुनाव होने जा रहा है. दुनिया की नजर अमेरिकी चुनाव पर टिकी हुई है. इस बार का राष्ट्रपति चुनाव इतिहास का सबसे महंगा चुनाव बनने जा रहा है. इस बार पिछले साल की तुलना में दोगुनी राशि खर्च होने का अनुमान लगाया जा रहा है. दुनिया की आगे की गतिविधियों के लिए अमेरिकी एक महत्वपूर्ण पक्ष है, ऐसे में अमेरिकी चुनावों पर हर कोई नजर बनाए हुए है. चलिए जानते हैं इस चुनाव से जुडी कुछ खास बातें.

कोरोना वायरस पर बाइडेन ने क्या कहा?

वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के कड़े प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन ने कहा कि वो कोरोना संक’ट को पलक झपकते ख’त्म करने का कोई भी झूठा वादा नहीं कर सकते हैं. बता दें कि बाइडेन लगातार कोरोना महामारी को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की कथित कुप्रबंधन पर निशाना साध रहे है. साथ ही उन्होंने इसे ख’त्म करने का वादा भी किया था.

jeo Biden trump

दो पार्टियों के बीच होगी टक्कर

अमेरिका में हर 4 साल में राष्ट्रपति पद के लिए नवंबर के पहले सोमवार के बाद आने वाले पहले मंगलवार को चुनाव होता है. अमेरिका में दो पार्टी का सिस्टम है और इन्हीं में से किसी एक पार्टी से राष्ट्रपति चुना जाता है. रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प हैं. वहीं डेमोक्रेट पार्टी लिबरल कहीं जाती है जिन्होंने जो बाइ़डेन को मैदान में उतारा है.

कैसे होता है मतदान

अमेरिका में वोटिंग का तरीका भारत से पूरी तरह अलग है. अमेरिका के कई राज्यों में मतदान तय वक्त से पहले भी हो जाते है. यहां के पंजीकृत मतदाताओं को चुनाव के दिन से पहले वोट करने की अनुमति भी दी जाती है.

कौन बन सकता है राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार

अमेरिका में राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनने के लिए कुछ शर्ते भी निर्धारित है. उम्मीदवार की पैदाइश अमेरिका की होना चाहिए. कम से कम 35 साल की उम्र हो. राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार वहीं व्यक्ति बन सकता है जो कम से कम 14 साल तक अमेरिका में रहा हो.

प्राइमरी चुनाव से किया जाता है चयन

राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को सेलेक्ट करने के लिए कई राज्यों में प्राइमरी चुनाव कराए जाते है. जिसमें पार्टी का कोई भी कार्यकर्ता जो सभी शर्तों का पालन करता है वो अपनी दावेदारी पेश करता है. इस प्रक्रिया में पार्टी समर्थक वोट करते है लेकिन अगर राज्य सरकारें चाहे तो खुले तौर पर चुनाव करा सकती है जिसमें जनता भी मतदान करती हैं. स्विंग स्टेट्स में अधिक वोट मिलने से ट्रम्प चुनाव जीत गए थे.

सबसे अहम चुनावी प्रक्रिया हैं डिबेट

अमेरिका में राष्ट्रपति के चुनाव में प्राइमरी चुनाव से लेकर राष्ट्रपति चुनाव तक अलग-अलग स्तरों पर डिबेट होती है, जिन्हें अमेरिकी न्यूज चैनल आयोजित करते हैं. इसमें सबसे खास होती है प्रेसिडेंशियल डिबेट, जिसमें दोनों पार्टियों के राष्ट्रपति उम्मीदवारों के बीच तीन चरणों में डिबेट होती हैं.

जनवरी में होती हैं शपथ ग्रहण

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद राष्ट्रपति को कैबिनेट का चुनाव करने के लिए कुछ वक्त दिया है. इसके बाद जनवरी में शपथ ग्रहण समारोह होता है. अमेरिका के राष्ट्रपति शपथग्रहण के बाद एक परेड में वाइट हाउस पहुंचते हैं. इसी के साथ उनका 4 साल का कार्यकाल शुरू हो जाता हैं.

साभार- लाइव हिंदुस्तान