एक बार फिर पलटे नीतीश कुमार, बोले में तो हर बार के चुनाव में कहता हूँ ‘अंत भला तो सब भला’

Bihar Assembly 2020 Results: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सौंपा राज्यपाल को इस्तीफ़ा

बिहार/पटना: बिहार के मुख्यमंत्री ‘नीतीश कुमार’ के एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस तरह का बयान देने के बाद राजनीतिक गलियारों में खलबली मच गई है. आपको ध्यान होगा, बिहार चुनाव के दौरान नीतीश कुमार ने कहा था कि यह मेरा आखिरी चुनाव है.

नितीश के इस तरह का बयान देने के बाद, राजनीतिक विशेषज्ञ मान रहे थे कि इसके बाद या तो वह राजनीति से सन्यास लेने वाले हैं, या फिर नीतीश कुमार इस चुनाव के बाद भविष्य में कोई चुनाव नहीं लड़ेंगे और यह उनका आखिरी चुनाव होगा.

नीतीश कुमार ने बिहार के राज्यपाल को अपना त्यागपत्र सौंपा

Nitish Kumar Bihar Ke Poorv Mukhymantri

अब इधर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए, नीतीश कुमार ने कहा है कि मैं तो ऐसा हर चुनाव में कहता हूँ, अंत भला तो सब भला. इसका मतलब यह है कि उन्होंने जो पहला वाला बयान दिया था, वह सिर्फ चुनावी जुमले के तौर पर देखा जाए.

13 नवम्बर को नीतीश कुमार ने बिहार के राज्यपाल को अपना मुख्यमंत्री पड़ का इस्तीफा (त्यागपत्र) सौंप दिया है. अब नीतीश कुमार, रविवार यानी कि 15 नवंबर के दिन दोपहर के समय एक बैठक बुला रहे हैं जिसमें मौजूद विधानसभा को भंग करने को लेकर तथा आगे की रणनीति तय होगी.

बिहार असेंबली चुनाव में नीतीश कुमार की पार्टी के साथ-साथ भाजपा ने भी अच्छा प्रदर्शन किया था. हालांकि जेडीयू (JDU) बिहार की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री बनते हैं या नहीं ये तो वक़्त ही बताएगा, फ़िलहाल इसपर अभी कुछ कहना जल्दबाज़ी ही होगी.

नीतीश कुमार आने वाले समय में क्या फैसला लेंगें, यह बात अभी पूरी तरह से एक राज है. राजनीतिक एक्सपर्ट लोगों का मानना है कि इस बार नीतीश कुमार अंदर ही अंदर कुछ खिचड़ी पका रहे हैं, और इनकी रणनीति का एकदम से खुलासा होगा जैसा कि ये हर बार यह करते हैं.

क्या तेजस्वी यादव बनेंगें बिहार के मुख्यमंत्री?

इधर बिहार का मुख्यमंत्री बनने के लिए तेजस्वी यादव की कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. मीडिया में खबरों के अनुसार वह फिलहाल ‘जीतन राम मांझी’ के अलावा कुछ और लोगों के संपर्क में हैं. ये वही जीतन राम मांझी हैं जिनको नीतीश कुमार ने पिछली बार मुख्यमंत्री पद से उतार दिया था.

तेजस्वी यादव ने अभी तक बिहार का मुख्यमंत्री बनने की उम्मीद नहीं छोड़ी है. इसके अलावा वह लगातार मतदान में हुए घपले की बात दोहरा रहे हैं, और मतपत्रों की पुर्नगणना की मांग कर रहे हैं. उनके मुताबिक बिहार में कुछ सीटों पर जबरदस्त हेराफेरी की गई है.