अपने भक्तो को नसीहत देना बाबा रामदेव को पड़ा भारी, अपने इस ट्वीट पर जमकर ट्रोल हुए बाबा रामदेव

भारत और चीन के बीच काफी समय से तनातनी का माहौल बना हुआ है. इसी बीच सोशल मीडिया पर कुछ लोगों द्वारा में चाइनीज प्रोडक्ट्स का बहिष्कार करने को लेकर कई तरह के अभियान चलाए जा रहे है. अब इस बहस में योग गुरु बाबा रामदेव भी कूद गए है. दरअसल पतंजलि आयुर्वेद कंपनी के संस्थापक और योग गुरु बाबा रामदेव ने ट्वीट करके ट्वीटर पर चल रहे बॉयकॉट चाइनीज प्रोडक्ट्स अभियान का समर्थन किया है.

लेकिन बाबा रामदेव अपने ट्वीट को लेकर सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गए है और लोग उनकी जमकर आलोचना कर रहे है और उन्हें ट्रोल कर रहे हैं. आपको बता दें कि दुनिया भर में फैले महामारी कोरोना वायरस के चलते लगाए गए लॉकडाउन के बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने एक संबोधन के दौरान स्वदेशी उत्पादों का उपयोग करने की अपील देशवासियों से की थी.

इसके बाद से ही सोशल मीडिया पर देश भर में चीनी समान के बहिष्कार की अपील की जा रही है. इसे लेकर सोशल मीडिया पर बॉयकॉट चाइनीज प्रोडक्ट्स हैशटैग भी चलाया जाता है और कई लोग इसे लेकर ट्वीट कर रहे है.

इसी बीच बाबा रामदेव ने भी बॉयकॉट चाइनीज प्रोडक्ट्स का समर्थन करने वाले कुछ ट्वीट किये. अपने पहले ट्वीट ने उन्होंने कहा कि हम लोगों को चीन या चीन के लोगों से कोई जाती दुश्मनी नहीं है लेकिन चीन द्वारा भारत के खिलाफ किये जाने वाले षड्यंत्र रोकने के लिए चाइनीज उत्पादों का बहिष्कार जरूरी है.

उन्होंने अपने दुसरे ट्वीट में लिखा कि देश के लिए लड़ना सिर्फ सीमा पर खड़े हमारे जवानों का फर्ज नहीं है, हमारा भी धर्म है कि हम चीन में बनें किसी भी उत्पात का इस्तेमाल ना करे और साथ ही दूसरों को भी ऐसा करने से रोके.

उन्होंने लिखा कि यह हमारा राष्ट्रधर्म है क्योंकि चीन द्वारा इन उत्पातों से कमाए गए पैसा का उपयोग हमारे ही खिलाफ साजिश रचने में किया जा रहा हैं.

वहीं अपने तीसरे ट्वीट में बाबा रामदेव ने लिखा कि अपने मोबाइल से चाइनीस एप्लिकेशन को हटाना भी एक राष्ट्रसेवा है. बता दें कि इस ट्वीट में बाबा रामदेव ने एक 33 सेकेंड का वीडियो भी शेयर किया है. वीडियो में Tiktok Lite, Shareit और VidMate जैसी एप्लिकेशन को अनइंस्टॉल करते हुए देखा जा सकता है.

इसके साथ ही Google Play Store से Flipkart, Sharechat का फोन में इंस्टॉल करते हुए दिखाया गया है. बाबा रामदेव की इस अपील के बाद उन्हें ट्रोल किया जाना लगा. एक यूजर ने लिखा कि सभी फोनों की बैटरी चीन वाले बनाते हैं कहीं अब बैटरी मत निकाल देना. इसी तरह की कई प्रतिक्रिया देखने को मिली है.