हाथरस कांड: पी'ड़ित परिवार को झूठ बोलने के लिए दिया था 50 लाख रुपये का लालच: पुलिस

हाथरस कांड: पी’ड़ित परिवार को झूठ बोलने के लिए दिया था 50 लाख रुपये का लालच: पुलिस

यूपी के हाथरस में हुए दर्दना’क कृ’त्य को लेकर सियासी पारा चढ़ चूका है, देश भर में इस मामले के खिलाफ गु’स्सा और आक्रो’श देखने को मिल रहा है. सभी देशवासियों की मांग है कि आरो’पियों पर जल्द से जल्द और सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए. वहीं यह मामला लगातार कानूनी दांव-पेंचों में फंसता नजर आ रहा है. हाथरस मामले में पुलिस ने अब तक कई आरोपों के तहत 19 एफआईआर दर्ज किए हैं.

जिसमें से FIR नंबर 151 सबसे महत्वपूर्ण है, इस एफआईआर में एक बड़ी आप’राधिक साजिश की बात कहीं गई है. इसमें राजद्रो’ह और आपराधिक साज़िश समेत कुल 20 धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है, हालांकि इसमें किसी का भी नाम नहीं लिया गया है.

आपको बता दें कि यह एफआईआर हाथरस के चांदपा थाने में दर्ज कराई गई है और इसे थाने के ही एसआई अवधेश कुमार द्वारा दर्ज कराया गया है.

क्या कहा गया है एफआईआर में?

एफआईआर में कहा गया है कि यह पूरी घट’ना एक सुनियोजित आप’राधि’क साज़ि’श के तहत पी’ड़ि’त के परिवार को बरगला गाढ़ी गई है. पी’ड़ि’त परिवार को अराज’क त’त्वों ने सूबे की योगी सरकार के ख़िलाफ़ ग़लतबयानी करने के लिए 50 लाख का प्रलोभन दिया है.

अवधेश ने एफआईआर में आगे लिखाया है कि अरा’जक त’त्व राज्य में वर्ग और जाति विशेष को भड़’काकर प्रदेश में अशांति फ़ैलाने की कोशिश कर रहे थे.

पी’ड़ि’त परिवार पर बार बार यह दबाव बनाया जा रहा है कि वो कहें कि सामूहिक दु’ष्क’र्म हुआ था जबकि पी’ड़ि’त परिवार ने अपनी पहली शिकायत में सिर्फ मा’रपी’ट की बात कही थी.

राज्य सरकार की छवि को क्षति पहुंचा कर पुरे सूबे में सनसनी फैलाने का प्रयास किया गया और अमन-चैन छिन्न भिन्न करने की कोशिश किया गया. इसके आलावा लोगों को भ’ड़काने के लिए सोशल मीडिया पर तमाम झूठी तस्वीरें और ऑडियो वायरल कराए जा रहे है.

यह मामला ऐसे वक्त में फाइल किए गए थे, जब सीएम योगी आदित्यनाथ ने दावा किया था कि कुछ लोग उनकी सरकार की विकास प्रगति को देखकर हाथरस मामला का गलत फायदा उठा रहे है. सोमवार को वरिष्ठ पुलिस अधिकारी प्रशांत कुमार ने दर्ज किए गए मामलों पर कहा था कि हाथरस मामले में एक गहरी साजिश रची गई है, हम जल्द ही सच का पता लगा लेंगें.

साभार- एनडीटीवी