RSS ने अपने लोगों को पुलिस अफ़सर बनाने के लिए कराया पेपर लीक, राज्य छोड़कर भागे बीजेपी नेता

RSS ने अपने लोगों को पुलिस अफ़सर बनाने के लिए कराया पेपर लीक, राज्य छोड़कर भागे बीजेपी नेता

असम में पुलिस भर्ती प्रश्न पत्र लीक घोटाले को लेकर बवाल मचा हुआ हैं. सूबे की विपक्षी पार्टी कांग्रेस का आरोप हैं कि भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता द्वारा पुलिस भर्ती पेपर लीक कराया गया हैं. कांग्रेस ने बीजेपी को निशाने पर लेते हुए आरोप लगाए हैं कि बीजेपी नेता इस घोटाले में शामिल हैं और इसके पीछे साजिशकर्ता आरएसएस हैं. इसके बाद से ही राज्य में यह मामला तेजी से तूल पकड़ता जा रहा हैं.

कांग्रेस ने दावा करते हुए कहा कि असम पुलिस में अपने उम्मीदवारों को शामिल करने के लिए आरएसएस ने यह योजना बनाई हैं. इस मामले को लेकर कांग्रेस काफी गंभीर नजर आ रही हैं. कांग्रेस ने मांग की हैं कि इस मसले पर उच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश द्वारा जांच कराई जाए.

वहीं ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) भी इस मामले को लेकर सरकार के खिलाफ उतर आई हैं, उन्होंने जमकर वि’रोध प्रदर्शन किये और इस दौरान असम सीएम सर्बानंद सोनोवाल के पुतले भी ज’लाए गए.

इस संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने कहा कि राज्य के पुलिस बल में आरएसएस अपने कार्यकर्ताओं को रखने की योजना बना रही हैं और आरएसएस की इस योजना में बीजेपी नेता भी शामिल थे.

इस मामले में वरिष्ठ बीजेपी नेता दिबन डेका का नाम सामने आया है जो राज्य छोड़कर भाग चुके हैं. डेका ने कहा कि वो राज्य छोड़कर भाग गए हैं क्योंकि उन्हें असम के कई बड़े और भ्रष्ट आला अधिकारियों के हाथों मा’रे जाने का ड’र है. इसके साथ ही उन्होंने पुलिस पर उनके खिलाफ सांठगांठ में शामिल होने के आरोप भी लगाए हैं.

बीजेपी किसान मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य के तौर पर पहचाने जाने वाले डेका उन लोगों की लंबी लिस्ट में शामिल हैं जिनसे हाल ही में असम पुलिस की सीआईडी और गुवाहाटी पुलिस की अपराध शाखा द्वारा पूछताछ की गई. क्राइम ब्रांच और सीआईडी ने सूबे की राजधानी और आसपास के कई होटलों में छापेमारी की हैं जो एक पूर्व डीआईजी पीके दत्ता और उनके परिवार के स्वामित्व वाले हैं.

आपको बता दें कि यह मामला पुलिस उप-निरीक्षक के पद के लिए आयोजित की गई परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक होने का हैं. इस मामले में पुलिस ने राज्य सरकार की एक महिला कर्मचारी समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया हैं और विशेष कार्य बल (एसटीएफ) के एक जवान सहित पांच अन्य लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया हैं.

साभार: सत्यहिंदी