अयोध्या भूमि पूजन: सीएम योगी आदित्यनाथ ने न्यूज चैनलों पर कसी नकेल अगर भूमि पूजन के दौरान डिबेट में…

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास के कवरेज करने वाले टीवी चैनलों से वि’वा’दित पक्ष को टीवी डिबेट में नहीं बुलाने के लिखित आश्वासन की मांग की हैं. आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में होने वाले मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में शामिल होने वाले है. पीएम मोदी के साथ-साथ योगी अदित्यनाथ सहित 200 लोगों के भाग लेने की खबरें सामने आ रही हैं.

इसी को देखते हुए अयोध्या के जिलाधिकारी ने न्यूज़ चैनलों को आदेश दिया है कि जो भी न्यूज़ चैनल अयोध्या में होने वाले इस कार्यक्रम को कवर करना चाहते हैं, उन्हें अनिवार्य रूप से अंडरटेकिंग देनी होगी कि वो इस मुद्दे को लेकर चैनल पर होने वाली बहस में किसी भी वि’वा’दि’त पक्षकार को न तो बुलाएंगे और न ही किसी भी धर्म, समुदाय या संप्रदाय या किसी विशिष्ट व्यक्ति पर कोई टिप्पणी करेंगे.

जिला प्रशासन द्वारा दिये गए निर्देशों के अनुसार अंडरटेकिंग में कहा गया है कि किसी भी तरह से कानून-व्यवस्था में चैनल के चलते होने वाली गड़बड़ी पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया संस्थान ही जिम्मेदार होंगे. अंडरटेकिंग में संस्थानों के हेड से इसे लेकर लिखित आश्वासन मांगा गया है.

इसमें कहा गया है कि कानून व्यवस्था को बनाए रखा जाएगा तथा अगर किसी भी तरह की कोई गड़बड़ी होगी तो इसकी जिम्मेदारी मेरी व्यक्तिगत रूप से होगी. न्यूज़ चैनलों को भेजे गए प्रारूप में नौ मदों के अनुसार अनुमति लेने की जरूरत बताई गई है.

इसके अनुसार भूमि पूजन के दौरान एक निजी इनडोर स्थान की पहचान भी शामिल है. इस उद्देश्य के लिए कोई सार्वजनिक स्थान उपयोग में नहीं लाया जाएगा.

चैनलों को निर्देश दिये गए है कि वो ध्यान रखे कि रिकॉर्डिंग के समय पैनलिस्ट के अलावा वहां और कोई भी’ड़ नहीं होनी चाहिए. वहां जो भी हो वो सभी मा’स्क पहने हो और सोशल डिस्टेंस का पालन करें.

इसे लेकर उप निदेशक सूचना मुरलीधर सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि वहां एक अलग मीडिया सेंटर तैयार किया गया है और वहीं से लाइव टेलीकास्ट होगा. चैनलों को पहले ही अनुमति लेना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि इस दौरान कोई वि’वा’दस्पद बयानबा’जी ना हो और ना ही को कोई सा’र्वज’निक सभा हो. इसके लिए उचित प्रो’टोकॉ’ल तैयार किये गए हैं.

साभार- जनसत्ता