बाबा रामदेव की प्रयोगशाला से निकली संजीवनी, लॉन्च की गई कोरोना वायरस की आयुर्वेदिक दवा जानिए किन जड़ी-बूटियों से मिलकर बनी

कोरोना वायरस का कहर दुनिया भर में तेजी से बढ़ता जा रहा है, भारत में भी इस वायरस से सं’क्रमि’त लोगों की तादात तेजी से बढती जा रही है. देश भर में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक कोरोना पॉजिटिव के कुल केसों की संख्या 4 लाख 40 हजार से भी अधिक हो चुकी हैं. हालांकि इसमें से ज्यादातर मामले में मरीज रिकवरहो रहे हैं. इसी बीच अब कोरोना वायरस से ल’ड़ने के लिए एक सटीक दावा बाजार में लांच कर दी गई है.

कोरोना वायरस के इलाज हेतु यह दवा बाबा रामदेव ने लांच की है. एक तरफ पूरी दुनिया के वैज्ञानिक जिस घातक वायरस की दवा बनाने में अभी तक सफल नहीं हो सके उस दवा को बाबा रामदेव के पतंजलि ने बना दिया है.

बाबा रामदेव ने आज इस दवा को लॉन्च किया जिसका नाम कोरोनिल रखा गया हैं. बाबा रामदेव ने दावा किया है कि यह आयुर्वेदिक औषधि है जो इस वायरस को खत्म करने में कारगर है.

इसे लेकर सोमवार को आचार्य बालकृष्ण ने ट्वीट करके बताया था कि मंगलवार दोपहर 12 बजे कोरोना की एविडेंस बेस्ड पहली आयुर्वेदिक औषधि कोरोनिल को साइंटिफिक डॉक्यूमेंट के साथ लॉन्च किया जाएगा.

जिसके बाद हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ में प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई जिसमें बाबा रामदेव, आचार्य बालकृष्ण के अलावा उन लोगों ने भी हिस्सा लिया जो वैज्ञानिक, शोधकर्ता और चिकित्सक दवा के ट्रायल के समय मौजूद थे.

आपको बता दें कि इस आयुर्वेदिक दवा पर शोध पतंजलि रिसर्च इंस्टिट्यूट और जयपुर के नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस ने साथ में मिलकर किया है.

बालकृष्ण के मुताबिक दिव्य कोरोनिल टैबलेट में अश्वगंधा, अणु तेल, गिलोय, श्वसारि रस और तुलसी जैसे औषधिक जड़ी-बूटियों को मिलाकर किया गया हैं. बालकृष्ण के अनुसार कोरोना से सं’क्रमि’त जिन मरीजों पर दवा का क्लिनिकल ट्रायल किए गए थे उनमें 100 प्रतिशत नतीजे देखने को मिले हैं.

उन्होंने दावा किया कि इसके सेवन से कोरोना वायरस से सं’क्रमि’त मरीज 5 से 14 दिनों के अंदर पूरी तरह ठीक हो जाएंगे. बालकृष्ण के अनुसार कोरोनिल दवा का सेवन सुबह और शाम को एक-एक बार किया जाना है. उनके मुताबिक दवा में मौजूद अश्वगंधा वायरस के रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन को बॉडी के एंजियोटेंसिन कनवर्टिंग एंजाइम में मिलने से रोक देता हैं. जबकि गिलोय इंफेक्शन को कम करता हैं.

आचार्य बालकृष्ण ने इस दौरान बताया कि दिव्‍य कोरोनिल टैबलेट मंगलवार से मार्केट में मिलनी शुरू हो जाएंगी. आपको बता दें कि इस दवा का निर्माण हरिद्वार की दिव्‍य फार्मेसी और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड द्वारा किया गया है.

साभार- जनसत्ता