अनदेखी तस्वीरें, देखिए, कैसे 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस की योजना बनाई गई और इस काम जो अंजाम दिया गया

भारत में कोरोना वायरस तेजी से बढ़ रहा है, दिन प्रतिदिन कोरोना संक्र’मण के मामले तेजी से बढ़ रहे है. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बुधवार की दोपहर को भूमिपूजन के लिए आधारशिला रखने जा रहे है. निर्माण की शुरुआत के प्रतीक के तौर पर 22 किलो चांदी की ईंट रखेंगे. दशकों की क़ानूनी लड़ाई के बाद अयोध्या में मौजूद 2.77 एकड़ विवादित भूमि को सुप्रीम कोर्ट ने नवंबर 2019 में राम मंदिर के लिए आवंटित कर दिया था.

बाबरी मस्जिद को एक भीड़ द्वारा 28 साल पहले, 6 दिसंबर 1992 को विध्वंस कर दिया गया था. एक बीजेपी सांसद ने जैन को बताया कि इससे पहले 5 दिसंबर को इसके लिए अभ्यास भी किया गया था. इसी दौरान दिप्रिंट के नेशनल फोटो एडिटर प्रवीण जैन अयोध्या में मोजूद थे. जैन ने अपने कैमरे में तो’ड़फोड़ की कई तस्वीरें कैद की थी और इस दौरान हुई घटनाओं की श्रृंखला का दस्तावेजीकरण किया था. चलिए देखते है कुछ अनदेखी तस्वीरें-

यूपी में कल्याण सिंह की बीजेपी सरकार द्वारा जुलाई 1992 में शिलान्यास समारोह (शिलान्यास) अधिग्रहित 2.77 एकड़ भूमि पर हुआ था.

कार सेवक विवादित स्थल पर प्रस्तावित मुख्य द्वार सिंहद्वार के भूमि पूजन के लिए इक्कठा हुए थे जहां पर बाबरी मस्जिद खड़ी थी.

तत्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री अर्जुन सिंह ने 3 दिसंबर 1992 को लखनऊ जाने से पहले तत्कालीन पीएम पी.वी. नरसिम्हा राव से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर एक फोन बूथ से बातचीत की. वह अयोध्या में स्थिति की निगरानी के लिए वहां गए थे.

बाबरी मस्जिद के विध्वंस से पहले 5 दिसंबर को एक कारसेवक दीवार पर क्त देंगे प्राण देंगे लिखता हुआ.

5 दिसंबर 1992 को कार सेवक हथौड़ों के साथ कतार में खड़े हुए.

वि’ध्वंस वाले दिन की सुबह बीजेपी नेता एल.के. आडवाणी ने राम जन्मभूमि आंदोलन के नेताओं के साथ मुलाकात की.

जब बाबरी मस्जिद को ढहाया जा रहा था तब कई बड़े बीजेपी नेता घटना स्थल पर ही मौजूद थे. तस्वीर में बाएं से: मुरली मनोहर जोशी, बीजेपी के तत्कालीन अध्यक्ष, एल.के. आडवाणी और विजयाराजे सिंधिया.

बाबरी मस्जिद को ध्व’स्त करते हुए नजर आते कार सेवक.

राम कथा कुंज में, विश्व हिंदू परिषद के नेता अशोक सिंघल (खड़े है) और उनके पास में उमा भारती ( दाईं ओर पीछे) राजनाथ सिंह (कैमरे के सामने बैठे हुए) से मिलते हुए.

वि’ध्वं’स के बाद दिल्ली में आडवाणी का स्वागत करते हुए अडवाणी की पत्नी कमला आडवाणी और नरेंद्र मोदी (दाहिने ओर)

सभी फोटो: प्रवीण जैन (दिप्रिंट)