फिर निकला सीएए का जिन्नः CAA लागू करने को लेकर बीजेपी अध्यक्ष का बड़ा बयान

पश्चिम बंगाल में चल रहे सियासी घमासा’न के बीच भारतीय जतना पार्टी के अध्यक्ष जे पी नड्डा ने सोमवार को बड़ा बयान दिया. नड्डा ने कहा कि कोविड-19 के चलते नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लागू करने में हमें देरी हुई है, इसी के साथ उन्होंने दावा करते हुए कहा कि जल्द ही इस कानून को लागू किया जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस पर फूट डालो और राज करो की नीति अपनाने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की सरकार फूट डालो और राज करो की नीति पर चल रही है और उन्होंने दावा ठोकते हुए कहा कि सूबे में अगली सरकार बीजेपी की ही बनेगी.

jp nadda

बंगाल दौरे पर पहुंचे नड्डा ने यहां 2021 में होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले संगठनात्मक तैयारियों का जायजा किया और विभिन्न समुदाय के लोगों को संबोधित किया और उन से चर्चा भी की.

इस दौरान नड्डा ने कहा कि आपको सीएए जरुर मिलेगा और यह मिला तय है. अभी नियमों पर काम चल रहा है, कोरोना के चलते कुछ रुकावट आई है. जैसे ही महा’मारी का प्रकोप हटता है, आपको उसकी सेवा मिलने लगेगी. इसको हम पूरा करेंगे.

उन्होंने कहा कि सीएए संसद से पारित होने के बाद कानून का रूप ले चुका है और बीजेपी इसे कठोरता से लागू करने के लिए प्रतिबद्ध है. नड्डा ने कहा कि कई स्थानीय लोगों ने इसे जल्द से जल्द क्रियान्वित करने का आग्रह किया. उनका दावा है कि उत्तर बंगाल में पूर्वी पाकिस्तान से बड़ी तादात में आए शरणार्थियों की आबादी है.

दरअसल राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और सीएए को लेकर स्थानीय समूहों की भावनाएं है, इसी के जरिए बीजेपी क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत करने के प्रयासों में लगी हुई है. पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने इस क्षेत्र की आठ में से सात सीटों पर जीत दर्ज की थी .

बता दें कि सूबे में अगली साल विधानसभा चुनाव प्रस्तावित है, ऐसे में बीजेपी अपनी स्थिति तेजी से मजबूत कर रही है. बीजेपी पिछले कुछ सालों में सूबे में मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर उभरी है. इस बार ममता बनर्जी को सत्ता में वापसी के लिए काफी जोर लगाना पड़ सकता है.

वहीं उत्तरी बंगाल की बात की जाए तो यहां सूबे की 294 सदस्यीय विधानसभा की 54 सीटें मौजूद हैं. ऐसे में बीजेपी इस क्षेत्र को साधने में जोर-शोर से जुटी हुई है. यही वजह है कि नड्डा ने सीएए को लेकर पार्टी का रुख एक बार फिर से साफ करते हुए इसे आगामी चुनाव में प्रमुख मुद्दे के तौर पर उभारने के संकेत दिये है. बता दें कि तृणमूल कांग्रेस ने संसद से सड़क तक सीएए का जमकर विरो’ध किया है.

साभार- जी न्यूज़