देश में रहने वाला कोई भी बालिग अपनी मर्जी से कर सकता है धर्म परिवर्तन और शादी: हाई कोर्ट

दिल्ली: इन दिनों शादी और धर्म परिवर्तन के मुद्दे बहुत सामने आ रहे हैं जिसमें अक्सर जबरन धर्म परिवर्तन जैसे आरोप लगाए जाते हैं वहीं कुछ लोग अपनी मर्जी से शादी करने के इच्छुक होते हैं लेकिन परिवार जनों के दबाव में पीछे हटते हैं लेकिन अब कोर्ट ने ऐसे मुद्दों पर अहम फैसला दिया है।

दरअसल हाल ही में उत्तर प्रदेश के अंदर लव जिहा’द का मुद्दा बहुत चर्चा में रहा जिसके बाद वहां कई मामले सामने आए जिसमें युवक-युवतियों ने घर से भागकर शादी रचाई क्योंकि अगर वह घर रह कर शादी करते तो उन पर लव जिहाद का ठप्पा लग सकता था लेकिन अब कोलकाता हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए बड़ी बात कही है।

कोई भी धर्म परिवर्तन और शादी अपनी मर्ज़ी से कर सकता है जो बालिग है – हाई कोर्ट

High Court Ka Adesh Apni Marzi se kar Sakta hai Dharm Parivartan

कोलकाता हाईकोर्ट ने कहा है कि अगर कोई भी व्यक्ति अपनी मर्जी से अपना जीवनसाथी चुनता है तो उसे कोई नहीं रोक पाएगा वहीं वह अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन भी कर सकता है और यही नहीं अगर उसकी अपने मां-बाप के पास ना आने की इच्छा है तो भी वह मना कर सकता है।

बता दें कि दुर्गापुर में रहने वाले एक व्यक्ति ने कोर्ट में याचिका दायर की थी याचिका में कहा गया था कि उनकी 19 साल की बेटी घर से झूठ बोल कर चली गई है। और यही नहीं उनकी 19 साल की बेटी ने धर्म परिवर्तन कर शादी भी कर ली है।

याचिका में व्यक्ति ने यह आरोप भी लगाया कि उनकी बेटी का जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाया गया है और जबरदस्ती झूठी गवाही दिलवाई गई है।

याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस संजीव बनर्जी और जस्टिस अरिजीत बनर्जी की खंडपीठ ने कहा कि“ अगर कोई भी वाले व्यक्ति अपनी मर्जी से शादी करता है तो उसे कोई नहीं रोक सकता और यहां तक कि वह धर्म परिवर्तन भी कर सकता है”।

कोर्ट ने आगे कहा कि अगर कोई व्यक्ति अपने माता पिता के पास वापस नहीं लौटना चाहता तो कोर्ट इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं कर सकता। यह व्यक्ति का निजी अधिकार है कि वह अपनी जिंदगी किस तरह जाएगा इसमें कोर्ट कैसे हस्तक्षेप कर सकता है।

हालांकि सुनवाई के दौरान पुलिस ने भी कहा कि लड़की ने अपने बयान में कहा है कि उसने यह शादी अपनी मर्जी से की है और वह अब अपने मां-बाप के पास नहीं जाना चाहती इसलिए अब कोर्ट इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं करेगा।