अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर लगी रोक, सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में महाराष्ट्र सरकार को किया तलब

मुंबई: रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी (Arnab Goswami) से जुड़े एक मामले में शुक्रवार को महाराष्ट्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट से तगड़ा झटका पड़ा है, सुप्रीम कोर्ट ने विशेषाधिकार हनन मामले में अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है, इसके साथ ही कोर्ट ने विधानसभा सचिव को नोटिस भी जारी किया है, जिसमे अदालत ने पूछा कि क्यों रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी की याचिका के संबंध में महाराष्ट्र विधानसभा सचिव के खिलाफ अदालत की अवमानना का कारण बताओ नोटिस जारी नहीं किया जा सकता है।

गौरतलब है की, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की आलोचना को लेकर महाराष्ट्र विधानसभा के सचिव ने अर्नब गोस्वामी के खिलाफ विशेषाधिकार नोटिस जारी किया था। अब इस मामले पर SC ने विधानसभा के सचिव को दो सप्ताह बाद इस मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट में हाजिर रहने को कहा है।

mumbai arnav

साथ ही SC ने अगले दो सप्ताह तक इस मामले में अर्नब की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अगुआ’ई वाली बेंच ने इस मामले में वकील अरविंद दातार को न्याय मित्र नि’युक्त किया है, साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि यह लेटर गंभीरता पूर्वक न्याय प्रशासन में दखल देने वाला है, क्योंकि इसमें कोर्ट जाने को लेकर अर्णव को ध’मका’या गया था।

बता दें रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को मुंबई रायगढ़ जिले की अलीबाग पुलिस ने बुधवार 4 नवंबर की सुबह करीब आठ बजे गिरफ्तार किया गया था, अलीबाग पुलिस ने करीब दो साल पहले 2018 में अलीबाग में इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी माँ ने अपने फार्म हाउस पर आ त्‍म ह#त्‍या कर ली थी।

इसके बाद एक सु सा’इ’ड नोट भी मिला था जिसमे तीन कंपनियों पर पैसे का भुगतान न करने का आरोप लगाया था इसमें से एक नाम अर्नब गोस्वामी की रिपब्‍लिक कंपनी का भी नाम था, हलाकि तब अलीबाग पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की लेकिन बाद में इस केस को बंद कर दिया गया, राज्य में सरकार बदलने के बाद पी’ड़ि’त परिवार ने एकबा’र फिर से इस मामले को उठाया और न्याय की गुहार’ लगाई थी।

पी’ड़ि’त परिवार की अर्जी अपर महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने इस मामले की जांच CID को सौं’प दी। इसी मामले में अलीबाग पुलिस अर्नब गोस्वामी के घर पहुंची और उन्हें गिरफ्तार कर लिया, फ़िलहाल अर्णब गोस्वामी को अभी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

साभार: जनसत्ता