बंगाल की ह’त्याओं पर छाती पीटने वाला बिकाऊ मीडिया, उत्तर प्रदेश की घटनाओं पर चुप क्यों है?

बंगाल में कोई घट’ना हो जाने पर देश का बिकाऊ मीडिया छाती पीटना चालू कर देता है लेकिन उत्तर प्रदेश की घट’नाओं पर उनको सांप सूंघ जाता है. वैसे तो आप खुद ही देख रहे होंगे देश का एक बड़ा चैनल कुछ दिन पहले लापता हुए विमान को बता रहा है कि एलियन ले गए, और एक दूसरा बड़ा मीडिया बता रहा है कि देश में गर्मी पाकिस्तान की वजह से बढ़ रही है. क्या ये हैं देश के ज़रूरी मुद्दे? रिपोर्टर हैं या गंजेड़ी? बेशर्म से हो चुके हैं कुछ चैनल तो और एक ने तो बगदादी को इतने बार मा’र दिया है की गिनती करना ही मुश्किल हुआ जा रहा है.

इस देश के बिकाऊ मीडिया ने दरअसल इस देश के लोगों को गुमराह करने की ठान ली है. वह जरूरी मुद्दों से इसको भटका रहा है. उत्तर प्रदेश से हर रोज हैरान कर देने वाली घ@टनाओं की खबरें आ रही हैं, लेकिन मीडिया ने कभी इस पर डिबेट नहीं बुलाई.

उत्तर प्रदेश से आज भी एक हृदय विदारक दु:खद खबर आई है, आगरा बार काउंसिल की नई नवेली अध्यक्ष जो कि 2 दिन पहले ही इन्हें इस पद से नवाजा गया था, जिनका नाम दरवेश यादव है उनको उन्हीं के साथी वकील ने जिसका नाम मनीष है उन्हें दिन दहाड़े गो’ली मारकर उनकी ह@त्या कर दी.

अब उसने यह क्यों किया फिलहाल खबर लिखे जाने तक खुलासा नहीं हुआ है, क्योंकि उनको गो’ली मारने के बाद मनीष ने अपनी लाइसेंसी पिस्तौल से अपने आप को भी गोली मार ली. हालांकि तुरंत ही इन दोनों को जिला अस्पताल पहुंचाया गया लेकिन डॉक्टरों ने दरवेश यादव को मृ’त घोषित कर दिया.

वहीं अभी मनीष की हालत गंभीर बनी हुई है. इसके अलावा भी आप लोग पिछले कई दिनों से सुन रहे होंगे की उत्तर प्रदेश में मासूम बच्चियों के साथ आए दिन क्या हो रहा है. और इन सबसे पहले याद कीजिए सपा कार्यकर्ता और समाजवादी पार्टी के नेताओं की चुन चुन कर किस तरह से ह@त्या की जा रही हैं.

काश के हमारे देश का मीडिया जो गंद फैला रहा है और समाज को गुमराह करने के लिए हर संभव कोशिशों में लगा है वो इस देश के ज़मीनी मुद्दों को दिखता तो आज इस देश की तस्वीर कुछ और ही होती. आखिर ऐसी क्या वजह है देश के जरूरी मुद्दों को मीडिया अपने चैनल में जगह नहीं दे पा रहा है?