तुम तोड़ोगे हम जोड़ेंगे, अच्छा हुआ तुमने ये कानून बनाकर हमें एक कर दिया- भीम आर्मी चंद्रशेखर

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद, रवीवार की रत को जामिया इस्लामिया विश्विद्यालय के इलाके में पहुंचे. उन्होंने नागरिकता संशोधन बिल और एनआरसी को लेकर रविवार की रात जामिया पर बयान दिया. जब तक यह सभी बिल सरकार वापस नहीं लेती, तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा. अभी इससे बड़ा और भी बड़े से बड़ा आंदोलन होगा. सरकार को याद रहे कि सरकार जनता से होती है.

जब किसी मुल्क के लोग तय कर लेते हैं, या कोई समाज यह ठान ले तो इतिहास गवाह है सरकारें उखड़ी हैं. बड़ी से बड़ी सरकारों की भी कुर्सी हिल गयी है. जब देश के सभी लोग मिलकर तय कर लेते हैं, तो ऐसी सरकरों को झुकना पड़ता है. इस देश में किसी की तानाशाही नहीं चलेगी.

Jamia Ke Chatra or Chatrayen

उन्होंने अच्छा किया, ये बिल ले आए और हमें एक कर दिया. कम से कम हम लोग तो एक तो हुए. यह तोड़ेंगे और हम जोड़ेंगे. मैंने पहले भी कहा है कि हम यहां बाई चांस नहीं, बाई चॉइस हैं. लोगों को यह बात समझ आनी चाहिए, इस देश की मिट्टी में हमारे लोगों का भी खू’न शामिल हैं.

यह मुल्क हमारी वजह से आज़ाद हुआ है, हमारे पुरखों ने अपनी जानें दी हैं. यह सावरकर के रिश्तेदार हमें देश से बाहर नहीं निकाल सकते, अंग्रेजों के सहयोगी, अंग्रेजों के रिश्तेदार आज हम से राष्ट्र भक्त होने का प्रमाण मांगते हैं, तुम होते कौन हो. मैं कहता हूं कि अगर तुम्हारा मन है, एनआरसी लागू करने का, तो डीएनए के आधार पर कर लो तुम्हें खुद पता लग जाएगा कि हकीकत क्या है.

Jamia Protest on CAB 2019

जिस दिन डीएनए के आधार पर एनआरसी होगा, उस दिन यह मुल्क सुरक्षित हो जाएगा. क्योंकि इस देश को खत’रा मुसलमा’नों से नहीं है. इस देश को संघि’यों से खत’रा है. इन हिटलर की औलादों से इस देश को खत’रा है. हिटलर ने एक मुल्क को बर्बाद कर दिया था, जिसका नाम जर्मनी है. यह भारत है यहाँ यह तानाशाही नहीं चलेगी.

हम अपने महापुरुषों के बताए रास्ते पर चलते हैं, किसी की गुलामी नहीं करेंगे. हम अपने भाईचारे को कभी नहीं टूटने देंगे. मैंने मुसलमा’नों के लिए कहा था, तुम्हारे लिए अगर जान भी देनी पड़ी तो हम देंगे. मुझे खुसी है आज वो हमने साबित करके भी दिखा दिया.

हमारी एकता ही हमारी ताकत है, और मैं चाहता हूं कि हम सभी लोग आगे बढ़ें. हम सभी साथ मिलकर आगे आयें और जो लोग घरों में सो रहे हैं, उन्हें भी घर से बाहर निकलना पड़ेगा, संविधान खत’रे में है इसे बचना होगा. और इसके लिए हम सबको एक होना पड़ेगा.

Leave a Comment