बार-बार एक ही संप्रदाय के लोग आग लगाते हैं, बाबा रामदेव ने देश के मुसलमानों पर साधा निशाना

फ्रांस विरो’ध की आग अब भारत के कई हिस्सों तक पहुंच गई है. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के बयान पर मचा बवाल शांत होने का नाम ही नहीं ले रहा है. मैक्रों के इस्लामिक आतं’कवाद संबंधी बयान पर कई खाड़ी देशों और मुस्लिम देशों में विरो’ध प्रदर्शन चल रहे है. अब यह विरो’ध प्रदर्शन भारत के भी कई शहरों में देखने को मिल रहे है. इसी बीच मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी प्रदर्शन किये गए.

भोपाल में कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में बड़ी तादात में लोगों ने सड़कों पर उतर कर फ्रांस के राष्ट्रपति के बयान का विरो’ध करके हुए प्रदर्शन किया और फ्रांस राष्ट्रपति के खिलाफ नारे भी लगाए.

France

वहीं भारत ने फ्रांस का खुलकर समर्थन किया है, ऐसे में मुसलमानों के वि’रोध पर सवाल उठाते हुए लोग पूछ रहे है कि जब भारत फ्रांस के साथ खड़ा है तो एक संप्रदाय उसका वि’रोध करके क्या संदेश देना चाहता है?

इसी बीच बीच योग गुरु बाबा रामदेव ने भी फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है. एक प्राइवेट न्यूज चैनल से बात करते हुए रामदेव ने कहा कि सरकार को ऐसे जलसे और जुलूसों की अनुमति नहीं देनी चाहिए.

बाबा रामदेव ने देश के मुस्लिम समुदाय के रवैये पर भी सवालियां निशान लगाते हुए कहा कि बार-बार एक ही संप्र’दाय के लोग आकर क्यों आग लगाने लग जाते हैं? ऐसा होगा तो फिर फिर हिंदू भी सोचेंगे कि आग ही लगाओ.

बाबा ने कहा कि आप अपनी मान्यताओं पर विश्वास रखिए लेकिन उसे पूरी दुनिया पर थोपने का प्रयास मत कीजिए. स्वयं के प्रति दृढता रखो और दूसरों के प्रति उदारता रखो. उन्हें स्वधर्म निष्ठा, परधर्म सहिष्णुता रखना चहिये.

इसके साथ ही रामदेव ने कहा कि ध्रुवीकरण की घृणित राजनीति का खेल भी समाप्त होना चाहिए. यह ध्रुवीकरण रजनीति ही है जो पोलराइजेशन के नाम पर मजहबी जमात इकट्ठा की जाने लगती है इसे बंद करना चाहिए. ध्रुवीकरण का पूरा का पूरा घृणित अजेंडा का हिस्सा है इस पर लगाम लगाई जाने की जरूरत हैं.

साभार- नवभारत