Bihar Elections 2020: मतदान संपन्न, Exit Poll आने के बाद BJP ने किया दावा, हम रचेंगे इतिहास

Bihar Assembly Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव का तीसरे और अंतिम चरण की 15 ज़िलों की 78 विधानसभा सीटों पर वोटिंग समाप्त हो गई है, वही चुनाव आयोग का कहना है कि तीसरे चरण की वोटिंग में शाम 6 बजे तक लगभग 54.57 फीसदी वोटिंग हुई है, और इसी के साथ 1204 उम्मीदवारो की किस्मत ईवीएम में कैद हो चुकी है. 2020 बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को आएंगे।

तीसरे चरण का मतदान खत्म होते ही सभी टीवी चैनलो ने एग्जिट पोल के नतीजे जारी कर दिए हैं. बिहार में अधिकतर एग्जिट पोल में एनडीए और महागठबंधन के बीच बड़ा मुकाबला बता रहे है, वहीं सर्वे में बिहार में जेडीयू को बीजेपी से कम सीटें भी दिया जा रहा है. हलाकि यह 10 मई को मतगणना के बाद ही साफ हो पायेगा कि नीतीश लगातार चौथी बार बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे या फिर महागठबंधन सत्ता में आएगा।

Exit Poll आने के बाद कौन किसको दे रहा है कितनी सीटें

bihar elections 2020

आपको बता दें तीन एग्जिट पोल का पोल ऑफ पोल्स (Pole of Poles) करने से पता चल रहा है कि बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन को 112, और महागठबंधन को 119 और अन्य को 8-12 सीटें मिलने का अनुमान लगाया जा रहा है. आपको बता दें बिहार की 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव हुआ है और बहुमत का आंकड़ा पाने के लिए 122 सीटों चाहिए है।

ABP न्यूज और सी-वोटर्स के सर्वे के मुताबिक एनडीए को 128 सीटें आ सकती है. एग्जिट पोल के हिसाब से जेडीयू को 40-46 सीटें मिलने का अनुमान है, और वहीं बीजेपी (BJP) को 38-46 सीटें मिलने का. जबकि टीवी-9 भारतवर्ष की एग्जिट पोल देखा जाए तो बिहार में एनडीए को 110-120 सीटें मिल रही है.

वही रिपब्लिक-जन की बात के एग्जिट पोल पर नजर डाली जाये तो बिहार में REPUBLIC-JAN KI BAAT एनडीए को 91 से 117 सीटें मिलने का अनुमान लगा रहे है. हालांकि सर्वे में बीजेपी और जदयू के अलग अलग सीटों के बारे में नहीं बताया गया है. वहीं टाइम्स नाउ सी वोटर भी एनडीए को 116 सीट दिया है।

इस बार का चुनाव बेरोजगारी और विकास के मुद्दे पर लड़ा गया

Tejashwi yadav

बिहार विधानसभा चुनाव की बता करे तो बिहार (Bihar) में इस बार सत्तारूढ़ एनडीए और राजद वाले महागठबंधन के बीच कड़ा मुकाबला था. और इस चुनाव में महागठबंधन ने बिहार में बेरोजगारी, सरकारी नौकरी व प्रवासी मजदूरों की स्थिति जैसे जरुरी मुद्दों को जोर-शोर से उठाया.वही एनडीए ने पिछले 15 साल में किए गए विकास कार्यों, बेहतर सुविधाओं, बिजली-पानी, और सड़क की बेहतर स्थिति बताकर इस चुनाव में बिहार की जनता से वोट मांगा।

आपको बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद बिहार में 12 रैलियां कर मतदाताओं को आगाह किया औऱ डबल इंजन की सरकार को फिर चुनने की अपील की. हाल ही तीसरे और अंतिम चरण से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र ने बिहार के लोगों के लिए चार पेज का पत्र जारी कर कहा था कि बिहार में विकास के लिए नीतीश कुमार की ही जरूरत है।