पंजाब निकाय चुनाव: भाजपा-अकाली दल का सूपड़ा साफ, 5 दशक पुराना रिकॉर्ड तोड़ कांग्रेस ने लहराया परचम

भजपा-अकाली डाल को किसान आंदोलन का खामियाजा भुगतना पड़ा, पंजाब के निकाय चुनावों में कांग्रेस ने अकाली दल और बीजेपी को करारी हार दी है

पंजाब: देशभर में कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों पर भले ही सड़क पर लाठियां बरसाई गई हो लेकिन किसान आंदोलन का असर हाल ही में पंजाब में हुए नगर निकाय चुनाव में साफ देखने को मिला है. जिससे ऐसा लग रहा है मानो लोगों ने किसानों के ऊपर पड़ी लाठियों का गुस्सा निकाल लिया है।

बता दें कि बीते 3 महीने से कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन कर रहे हैं और इस आंदोलन में सबसे ज्यादा पंजाब और हरियाणा के किसान ही सड़क पर हैं ऐसे में इन राज्यों के किसानों की केंद्र सरकार से नाराजगी अब सरकार के लिए पंजाब नगर निकाय चुनाव में भारी पड़ गई जिसका नतीजा यह हुआ कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को पंजाब नगर निकाय चुनाव में भारी खामियाजा भुगतना पड़ा है।

अभी तक के नतीजे उनके मुताबिक ये स्थिति है

बता दें कि किसान आंदोलन के बीच ही 14 फरवरी के रोज पंजाब में नगर निकाय चुनाव के लिए वोटिंग हुई थी जिसमें सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने 1003 उम्मीदवार मैदान में उतारे थे तो वहीं विपक्षी पार्टी कांग्रेस के 2037 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे

  • बाटला नगर निगम: कांग्रेस 35, अकाली दल 6, बीजेपी 4, AAP 3, निर्दलीय 1
  • मोगा नगर निगम: कांग्रेस 20, अकाली दल 15, बीजेपी 1, AAP 4, निर्दलीय 10
  • कपूरथला नगर निगम: कांग्रेस 43, अकाली दल 3, निर्दलीय 2
  • पठानकोट नगर निगम: कांग्रेस 37, अकाली दल 1, बीजेपी 11, निर्दलीय 1
  • अबोहर नगर निगम: कांग्रेस 49, अकाली दल 1

निकाय चुनावों में किसान आंदोलन का साया

ऐसे में अब चुनाव के परिणाम काफी चौंकाने वाले हैं क्योंकि किसान आंदोलन की वजह से पंजाब में भारतीय जनता पार्टी और अकाली दल का जमकर विरोध हुआ था और अब नगर निकाय चुनाव में कांग्रेस पार्टी का डंका बजने से भारतीय जनता पार्टी के लिए चिंताएं और बढ़ गई हैं ।

जानकारी के अनुसार चुनाव परिणाम में इस बार नगर निगम और नगर पंचायत में कांग्रेस पार्टी का दबदबा रहा। कांग्रेस पार्टी ने बठिंडा, कपूरथला, पठानकोट, मोगा नगर निगम सीट जीत ली हैं।

कांग्रेस पार्टी के नेता मनप्रीत सिंह बादल ने पंजाब नगर निकाय चुनाव में कांग्रेस की सफलता पर ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि “ बठिंडा में भी कांग्रेस पार्टी की जीत हुई है यह 53 साल बाद हुआ है जब बठिंडा में भी कांग्रेस पार्टी का मेयर बनेगा”. गौरतलब है कि इससे पहले बठिंडा नगर निगम में शिरोमणि अकाली दल का कब्जा था।

इधर गुरदासपुर में भी कांग्रेस पार्टी ने अपना दबदबा कायम किया है जानकारी के अनुसार गुरदासपुर में भी सभी वार्डों में कांग्रेस पार्टी ने जीत हासिल की है । गुरदासपुर में 29 वार्ड हैं जो कि इस बार सभी कांग्रेस के खाते में गए हैं।

आपको बता दें कि गुरदासपुर से बॉलीवुड अभिनेता सनी देओल बीजेपी से सांसद हैं और 2022 में पंजाब में विधानसभा चुनाव होने हैं ऐसे में चुनावों के नतीजे आगामी चुनावों की दिशा भी तय करेंगे।

दिल्ली (नोएडा) के रहने वाले ज़ुबैर शैख़, पिछले 10 वर्षों से भारतीय राजनीती पर स्वतंत्र पत्रकार और लेखक के तौर पर कई न्यूज़ पोर्टल और दैनिक अख़बारों के लिए कार्य करते हैं।