VIDEO: महाराष्ट्र पालघर मामले में बुरी फंसी भाजपा, लिं’चिं’ग के आरोप में ज्यादातर भाजपा कार्यकर्ता गिरफ्तार

मुंबई: देशभर में लिंचिंग एक बार फिर बहस का मुद्दा बना हुआ है. बता दें महाराष्ट्र के पालघर में एक ड्राइवर सहित दो साधुओं को चोरी के शक में पी’ट-पी’टकर ह#त्या कर दी गई. इस मामले को लेकर लोगों में काफी आक्रोश है. इस मामले पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने वीडियो संदेश जारी कर कहा कि तीन लोगों की भी’ड़ द्वारा ह#त्या के मामले में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

वही ठाकरे ने एक वीडियो संदेश में कहा कि सोमवार को उन्हें गृह अमित शाह का फोन आया था और उन्होंने खुद मामले में किसी तरह के सां’प्रदायि’क पहलू के नहीं होने की बात कही थी. ठाकरे ने कहा, मैंने उनसे उन लोगों पर कार्रवाई करने के लिए अनुरोध किया जो पालघर भी’ड़ ह#त्या मामले को सां’प्रदा’यिक रंग दे रहे हैं।

बात दें गुरुवार रात 10 बजे के करीब खानवेल मार्ग पर नासिक की तरफ से आ रही गाड़ी में 3 लोग थे. गांव वालों ने रोका और फिर चोर होने की शक में प’त्थ’रों से और ला’ठी डं’डो से ह’मला कर दिया. तीनों की मौके पर ही मौ’त हो गई. म’रनेवालों में से दो की पहचान साधुओं के रूप में हुई जबकि तीसरा उनका ड्राइवर था।

तीनों मृतक मुंबई के कांदिवली से सूरत अपने एक मित्र के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने जा रहे थे. इसमें 35 साल के सुशीलगिरी महाराज और 70 साल के चिकणे महाराज कल्पवृक्षगिरी थे. जबकि 30 साल का निलेश तेलगड़े ड्राइवर था।

 

जिले में लॉकडाउन के दौरान तीन लोगों की पी’ट-पी’टकर ह#त्या कर दी गई थी। ह#त्या के बाद भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और कुछ कलाकारों द्वारा सा’प्रदा’यि’क रंग देने की कोशिशें हुई जिसमें पानी डालने के लिए सीएम उद्धव ठाकरे दिन रात एक कर रहे है।

अब इस मामले में मुंबई के कांग्रेस प्रवक्ता ने नई गेंद फेक दी है. कांग्रेस प्रवक्ता ने उलटा आरोप लगाया कि भी’ड़ द्वारा पी’ट-पी’ट कर ह#त्या करने के मामले में गिरफ्तार किए गए अधिकतर आरोपी भाजपा के सदस्य हैं. प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव सचिन सावंत ने यह भी दावा किया कि भाजपा इस मामले में सांप्रदायिक राजनीति कर रही है।

ताकि भाजपा इस राजनीतिक का फायदा उठा सके. सचिन सावंत का कहना है कि घटना से संबंधित गांव दिवासी गढ़चिंचले पिछले 10 वर्षों से भाजपा का गढ़ माना जाता है. वहां का मौजूदा मुखिया भी भाजपा से ही है।

वही पत्रकार प्रशांत कनौजिया ने हिंदी अखबार लोकमत के एक खबर का स्क्रीनशॉट सांझा करते हुए लिखा कि महाराष्ट्र के पालघर मामले में गिरफ्तार हुए लोग भाजपा से जुड़े हुए हैं।

Leave a Comment