गांधी परिवार के 12 साल पुराने चीन दौरे पर बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने उठाए सवाल, जमकर हुए ट्रोल

गांधी परिवार के 12 साल पुराने चीन दौरे पर बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने उठाए सवाल, जमकर हुए ट्रोल

भारत और चीन के बीच लद्दाख में बने सीमा विवाद को लेकर चल रहे तनाव के बीच भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने गांधी परिवार की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है. फोटो शेयर करते हुए उन्होंने दावा किया है कि यह तस्वीर गांधी परिवार के 12 साल पहले किये गए चीन दौरे की हैं. मालवीय ने अपने ट्वीट में गांधी परिवार पर निशाना भी साधा है.

अपने ट्वीट में मालवीय ने कहा कि गांधी परिवार का कोई भी सदस्य 2008 में पब्लिक ऑफिस में नहीं था तो उन्होंने चाइनीज हॉस्पिटैलिटी को मंजूर क्यों किया. गांधी परिवार को लद्दाख के तनाव से जोड़ते हुए मालवीय ने कहा कि डोकलाम से लद्दाख तक, क्या इस गांधी परिवार का हित देशहित से ऊपर है?

 

जैसे ही मालवीय ने ट्वीट किया उन्हें सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा ट्रोल किया जाने लगा. एक यूजर ने लिखा कि यह तस्वीर तो 12 साल पुरानी है लेकिन तुम्हारे मोदीजी तो पिछले साल ही चीन गए थे.

वहीं इस पर एक यूजर ने आल्ट न्यूज़ का फ़ैक्ट चैक शेयर करते हुए अपने ट्वीट में लिखा कि बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने गांधी परिवार की 2008 की चीन यात्रा को दिखाने के लिए 2017 की एक तस्वीर शेयर की हैं.

उसने लिखा कि यह तस्वीर दिल्ली के ताज पैलेस होटल में आयोजित चीन के फूड फेस्टिवल के दौरान ली गई थी. इस फेस्टिवल में उस समय के रेल मंत्री और बीजेपी नेता सुरेश प्रभु भी मौजूद थे.

वहीं एक और यूजर ने लिखा कि अमित मालवीय को झूठ बोलने और फर्जी खबरें फ़ैलाने के लिए मांफी मंगनी चाहिए. वहीं एक अन्य ने लिखा कि गांधी और कांग्रेस के बारे में बात करने से पीएम मोदी से ध्यान या इसके लिए उनकी ज़िम्मेदारी कम नहीं हो जाएंगी.

आपको बता दें कि आल्ट न्यूज़ के अनुसार 2008 में गांधी परिवार कथित तौर पर बीजिंग गया था और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ दोनों दलों के संबंध बढ़ाने को लेकर एक MoU भी साइन किया गया था.

लेकिन अमित मालवीय ने 2017 की एक तस्वीर को गलत तरीके और गलत इरादों के साथ पेश किया है. यह तस्वीर साल 2017 में दिल्ली के ताज पैलेस होटल में आयोजित चीन के फूड फेस्टिवल की हैं जिसमें बीजेपी और कांग्रेस के कई बड़े नेता शामिल हुए थे.

साभार- जनसत्ता