बंगाल में मुसलमानों को लेकर इमाम एसोसिएशन ने किया बड़ा ऐलान, बीजेपी से जुड़ने वाले को मुसलमान को नहीं…

पश्चिम बंगाल में बंगाल इमाम एसोसिएशन ने एक बड़ा ऐलान करके हर किसी को हैरान कर दिया है. बंगाल इमाम एसोसिएशन ने साफ तौर पर मुस्लिम समुदाय को अघोषित चेतावनी देते हुए कहा है कि जो भी मुस्लिम भारतीय जनता पार्टी से जुड़ेंगे, उन्हें मुसलमान नहीं माना जाएगा. एसोसिएशन के इस ऐलान के बाद सूबे में हर किसी ने आश्चर्य व्यक्त किया हैं. वहीं इस ऐलान पर भारतीय जनता पार्टी ने अप्पति भी जाहिर की हैं.

एसोसिएशन के चीफ मोहम्मद याहिया ने ऐलान करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) मुस्लिम विरोधी संगठन हैं. जो भी मुसलमान भाजपा से जुड़ते हैं उन्हें ध्यान रखना होगा कि कल विरोध की आवाज उनके खिलाफ भी उठेगी.

उन्होंने आगे कहा कि अगर कोई भी मुसलमान बीजेपी ज्वाइन करेगा तो उसे मुसलमान नहीं माना जाएगा. वहीं इससे पहले उन्होंने शनिवार को एक पत्र लिखकर अयोध्या में हुए कार्यक्रम पर भी सवाल उठाए.

उन्होंने 5 अगस्त को हुए श्री राम मंदिर भूमि पूजन विरोध करते हुए कहा कि जब एक पुजारी और उसके साथी कोरोना पॉजिटव पाए गए थे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वहां क्यों गए. कोरोना फैलने के कारण जब तबलीगी जमात के खिलाफ एक्शन लिया गया था तो अयोध्या में कार्यक्रम कैसे हुआ.

इस पत्र के माध्यम से बंगाल इस्लाम एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लेते हुए कहा कि वो संविधान के सामने झुकते हैं. लेकिन उसी संविधान का अपमान भूमि पूजन में जाकर करते हैं.

इमाम मोहम्मद याहिया ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस ने हिंदू धर्म को हाईजैक कर लिया है और इसे अलग से अपना धर्म बना लिया हैं और अब वो हिंदुओं को मूर्ख बना रहे हैं.

वहीं इस पर प्रतिक्रिया देते हुए आरएसएस की वेस्ट बंगाल इकाई के सचिव जिष्णु बसु ने कहा कि बंगाल का मुसलमान बेवकूफ नहीं है. हमने सालों से देखा है कि राजनीति में जो दल भी काबिज हुआ है उसी ने मुस्लिम समुदाय को धोखा दिया हैं.

उन्होंने कहा कि हम वेस्ट बंगाल में अपने बच्चों के लिए अच्छी शिक्षा, रोजगार के अवसर और विकास चाहते हैं. लेकिन किसी भी राजनीतिक दल ने हमें इन जरूरतों को पूरा करने का प्रयास नहीं किया है. इसलिए हम चाहते हैं कि मुसलमान समझें कि उन्हें किसका सपोर्ट करना हैं.

साभार- जी न्यूज़