किसान आंदोलन में मीडिया का हो रहा बहिष्कार, आज तक और इंडिया न्यूज़ के रिपोर्टर को भगाया

किसान आंदोलन में लगे गोदी मीडिया मु'र्दाबा'द के नारे, आज तक और ईंडिया न्यूज़ के रिपोर्टर को भगाया

नई दिल्ली, 2 दिसम्बर 2020: देश में चल रहे ‘किसान आंदोलन’ में हर रोज कुछ न कुछ नया देखने को मिल रहा है। जहां एक और पंजाब और हरियाणा के किसान सिंधु बॉर्डर पर डटे हुए हैं. वहीं दूसरी ओर राजनीतिक गलियारों में भी किसान आंदोलन की गूंज दिल्ली तक पहुंच चुकी है। किसान आंदोलन सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक इन दिनों छाया हुआ है।

वहीं देश और दुनिया के चर्चित नाम लगातार किसान आंदोलन को लेकर टिप्पणियां कर रहे हैं। हाल ही में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिस ट्रुडो ने भी किसानों के समर्थन में एक वीडियो जारी किया था जिसमें वह किसानों का समर्थन करते हुए दिखाई दे रहे थे।

किसानों ने आज तक और इंडिया न्यूज़ के रिपोर्टर को भगाया

farmar

आपको बता दें कि देश के किसान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। किसानों का मानना है कि इन कृषि कानूनों से उनका कोई भला नहीं होने वाला है। वल्कि इन कानूनों से वे व्यापारियों के सामने दोयम दर्जे पर आ जाएंगे।

वही किसान आंदोलन को देखकर ऐसा लगता है कि अब किसान सिर्फ कृषि कानूनों के खिलाफ ही नहीं वरन और भी समस्याओं के खिलाफ आर-पार की लड़ाई लड़ने के मूड में है। यूं तो सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन से जुड़ी पुलिस और किसानों के बीच झड़प की तस्वीरें और वीडियो खूब वायरल हुई है।

 

लेकिन अब सोशल मीडिया पर एक और वीडियो जमकर वायरल हो रहा है. जिसमें कृषि कानूनों के खिलाफ उतरे सैकड़ों किसान मीडिया को भी आड़े हाथ ले रहे हैं। इस वीडियो में किसान मीडिया के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोले हुए हैं और गोदी मीडिया मु’र्दाबा’द के नारे लगा रहे हैं।

सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें आज तक चैनल से जुड़ा एक रिपोर्टर किसान आंदोलन की खबर कवर करने के लिए किसानों के बीच जाता है। ऐसे में किसान गोदी मीडिया मु’र्दाबा’द के नारे लगाने लगते हैं। और उल्टा रिपोर्टर से ही सवाल पूछने लगते हैं कि जब आंदोलन से पहले हम समस्याओं से जूझ रहे थे तब आप कहां थे।

दरअसल किसानों का मानना है कि मीडिया उनकी खबरें नहीं दिखाता वह सरकार की दलाली करता है वह दलाल मीडिया है। यही अंजाम इंडिया न्यूज के रिपोर्टर को भी भुगतना पड़ा। किसान आंदोलन के बीच पहुंचते ही किसान गोदी मीडिया मु’र्दाबा’द के नारे लगाते हुए दिखे ऐसे में लगता है कि अब किसानों ने मीडिया के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया हैं।