फिर आमने-सामने खट्टर और अमरिंदर, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा- खट्टर पंजाबियों से माफी मांगे, तू है किधर, तू अपने स्टेट को सभाल तुझे क्या पता की…

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि हरियाणा के सीएम को कुछ नहीं पता। उन्हें नहीं मालूम कि पंजाब में क्या हो रहा है। किसान आंदोलन के पीछे वो हमें बताते हैं।

नई दिल्ली, 30 नवंबर 2020: पिछले पांच दिनों से देश में किसान आंदोलन चल रहा है पंजाब और हरियाणा के किसान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि अध्यादेशों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। तथा दिल्ली चलो रैली निकाल रहे हैं. ऐसे में किसान आंदोलन सिर्फ सड़क पर पुलिस और किसानों के बीच झड़प ही नहीं बल्कि अब इसकी गूंज राजनीतिक गलियारों में भी दिखने लगी है।

आपको बता दें कि इस समय पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली सिंधु बॉर्डर के पास पिछले पांच दिनों से डटे हुए हैं ऐसे में जब 2 राज्यों के किसान सरकार से अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ रहे हैं तब इन्ही दो राज्यों के मुख्यमंत्री भी आमने-सामने हो गए।

amarinder singh

हाल ही में पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों के बीच एक विवा’द हो गया जिसमें पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तो यहां तक कह डाला कि जब तक हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर उनसे माफी नहीं मांगेंगे तब तक हो उनसे बात नहीं करेंगे।

दरअसल पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पर आरोप लगाते हुए कहा है कि खट्टर किसानों को अपनी बात कहने से रोक रहे हैं जब केंद्र सरकार ने किसानों को आंदोलन की अनुमति दे दी है तो खट्टर कौन होते हैं जो किसानों को आगे बढ़ने से रोक रहे हैं।

वहीं इस पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पलटवार करते हुए कहा कि हमने तय किया है कि प्रदेश में किसी भी प्रकार की भीड़ नहीं जुटने देंगे अगर प्रदेश में कोरोना के मरीज बढ़ते हैं तो इसके लिए पंजाब सरकार जिम्मेदार होगी।

केंद्र सरकार ने भी भीड़ जमा न होने के निर्देश दिए हैं ऐसे में कैप्टन अमरिंदर सिंह किसान आंदोलन की अनुमति कैसे दे सकते हैं उन्होंने यह भी कहा कि मैंने इस पर कैप्टन अमरिंदर सिंह से बात करने की कोशिश की परंतु उन्होंने मेरा कॉल रिसीव नहीं किया।

दोनों नेताओं के बीच लगातार बयानबाजी जारी है पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को झूठा करार देते हुए कहा कि उन्होंने मुझे कोई कॉल नहीं किया तथा अब अगर वह मुझे फोन करेंगे तो भी मैं उनसे बात नहीं करूंगा उन्हें किसानों से माफी मांगनी होगी।

कैप्टन अमरिंदर के फोन कॉल्स के दावे के बाद खट्टर के निजी सचिव ने ट्वीट कर कैप्टन अमरिंदर पर निशाना साधा उन्होंने कहा कि ‘ मुझे आशा है कि कैप्टन अमरिंदर अच्छा कर रहे हैं परंतु ऐसा लगता है कि आपके निजी कर्मचारियों ने अन्य मुख्यमंत्रियों के फोन कॉल्स के बारे में जानकारी नहीं दी है।

निजी सचिव की प्रतिक्रिया के बाद दोनों नेताओं के बीच लगातार बयानबाजी जारी है दोनों नेता आपस में एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं कि वह किसानों के हित में कोई काम नहीं करना चाह रहे हैं।