मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिखाया 56 इंच का सीना, चीन के साथ इतने करोड़ के करार पर लगाई रोक

चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर चल रही तनातनी बढती ही जा रही हैं. हाल ही में दोनों देशों की सेनाओं के बीच झड़’प हो गई थी जिसमें 20 भारतीय सैनिक और करीब 40 चीनी सैनिकों के शहीद होने की खबर सामने आई थी. इसके बाद से ही चीन के खिलाफ देश भर में गुस्सा देखने को मिल रहा है. भारत में चीनी सामान के बहिष्कार को लेकर भी कई तरह के अभियान चलाए जा रहे है.

आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर #boycottchina, #boycottchineseproducts जैसे हैजटैग ट्रेंड हो रहे हैं. इस दौरान लोग अपने घरों में मौजूद चाइनीस सामनों को जला कर चीन के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं. इस दौरान कई लोगों ने अपने घरों में मौजूद टीवी भी सड़कों पर लाकर फोड़ दिये.

इसी बीच महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने एक बड़ा फैसला देते हुए चीनी कंपनियों से किया हुआ 5000 करोड़ रुपए के करार पर रोक लगा दी है. महाराष्ट्र की गठबंधन वाली महाविकास अघाड़ी सरकार ने बीते दिनों मैग्नेटिक महाराष्ट्र 2.0 इन्वेस्टर मीट का आयोजन किया था.

इसी समय तीन चाइनीज कंपनियों के साथ 5000 करोड़ रुपए के निवेश का करार महाराष्ट्र सरकार के साथ किया गया था. अब सूबे की उद्धव ठाकरे सरकार ने आदेश जारी करके करार पर रोक लगा दी हैं.

इसके बाद से ही सोशल मीडिया पर महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार के फैसले की काफी तारीफ हो रही हैं. सोशल मीडिया यूजर सरकार के इस फैसला का स्वागत भी कर रहे हैं.

वहीं सोशल मीडिया पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से आईपीएल को लेकर विवो के साथ किये गए करार हो खत्म करने की अपील भी की जा रही थी. लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने विवो के साथ करार खत्म करने से साफ इनकार कर दिया हैं.

गौरतलब है कि 15 जून की रात लद्दाख के गलवान घाटी में भारतीय सेना के जावनों की चीनी सैनिकों से झड़’प हो गई थी जिसमें 20 भारतीय जवान शही’द हो गए थे. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारतीय जवानों को चीनी सेना ने नुकि’लें हथियारों से हम’ला करके मा’रा था.