सचिन पायलट की मुश्किलें बढ़ी, सीएम गहलोत ने जारी किया ऑडियो, केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शिखावत से संपर्क में थे….

राजस्थान में उठे सियासी तूफ़ान ने अब नया रुख ले लिया हैं. यह सियासी बवंडर सूबे की राजनीति को किस तरफ लेकर जाएगा यह तो आने वाला समय ही तय करेगा लेकिन फ़िलहाल को सूबे के सबसे लोकप्रिय नेता सचिन पायलट की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. इसी बीच सीएम अशोक गहलोत ने एक ऑडियो जारी करके भूचाल खड़ा कर दिया हैं. सीएम गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा के द्वारा एक ऑडियो प्रेस नोट के साथ जारी किया गया है.

प्रेस नोट के अनुसार केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शिखावत जयपुर के रहने वाले संजय जैन की मदद से विधायक भंवरलाल शर्मा से संपर्क साधे हुए हैं. प्रेस नोट के मुताबिक गजेन्द्र और भंवरलाल के बीच हुई वार्तालाप इस ऑडियो में कैद हैं.

जिसमें भंवर लाल द्वारा 30 विधायकों की संख्या शीघ्र पूरी होने की बात कही जाती है जिस पर गजेन्द्र सिंह सरकार के घुटने टिकाने की बात करते हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गजेन्द्र सिंह भंवरलाल से कहते है कि आप लोग होटल में 8 से 10 दिन रहिये.

उन्होंने आगे कहा कि राज तो बाड़े में लम्बे समय तक नहीं रह सकता है. जैसे ही वो छोड़ेंगे, लोग अपने पास चले आएंगे.संजय जैन भंवरलाल को कहते है कि आप सचिन पायलट को कह कर उनकी लिस्ट में अपना एवं गिरधारी का नाम अलग करा लेना. मैं आपका गजेन्द्र सिंह जी से सीधा संपर्क करा दूंगा.

जिस पर भंवरलाल अमाउंट तय होने की बात पूछते है तब संजय जैन उन्हें आश्वासन देता हैं कि इस मामले में आपको कल कह दिया था. साथ ही यह भी भरोसा दिलाया जाता है कि उनकी वरिष्ठता का पूरा ख्याल रखा जाएगा.

वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस आलाकमान ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की वापसी को लेकर बड़ा फैसला लिया है. कांग्रेस ने गुरुवार को ऐलान किया कि अब सचिन के लिए पार्टी के दरवाजे हमेशा के लिए बंद किये जाते है जब बुधवार तक पार्टी उनकी घर वापसी की राह देख रही थी. लेकिन अब सचिन की कांग्रेस में वापसी के सारे रास्ते बंद हो चुके हैं.

वहीं इसी के साथ ही विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने पायलट और उनके समर्थकों को नोटिस जारी कर दिया हैं. विधानसभा अध्यक्ष ने सचिन पायलट और 18 अन्य बागी विधायकों को अयोग्य घोषित करने के मामले में नोटिस जारी कर दिया है. जिसे सचिन के खेमे ने हाईकोर्ट में चुनौती दी हैं.