भाजपा विधायक के बेटे की करतूत, झूटी शिकायत कर कॉमेडियन ‘Munawar Faruqui’ को भिजवाया जेल, नहीं मिले कोई ख़िलाफ़ सबूत

क्या 'मध्य प्रदेश' पुलिस अब इतनी लाचार हो चुकी है कि राजनैतिक दबाब में आकर किसी भी झूठी शिकायत पर, बिना आरोपों की सही से पड़ताल किये बगैर किसी को भी गिरफ्तार कर सकती है?

आमतौर पर लोगों को यह शिकायत रहती है कि पुलिस समय रहते दोषियों को नहीं पकड़ पाती लेकिन इससे भी बड़ी शिकायत यह रहती है कि पुलिस बिना किसी जांच के निर्दोषों को पकड़कर हवालात में पहुंचा देती है। ऐसा ही एक मामला हाल ही में सामने आया है जब पुलिस ने बीजेपी विधायक के कहने पर मशहूर कॉमेडियन को गिरफ्तार कर लिया।

लेकिन जब जांच की गई तो मशहूर कॉमेडियन बिल्कुल निर्दोष पाए गए अब मध्य प्रदेश पुलिस पर सवाल उठ रहे हैं। कि वह बिना जांच किए किसी को भी कैसे गिरफ्तार कर सकते हैं। हाल ही में मध्य प्रदेश कि इंदौर पुलिस ने मशहूर कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी को बीजेपी विधायक के बेटे की शिकायत पर गिरफ्तार कर लिया।

कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी को किया गिरफ्तार

Comedian Munawar Farooqui

आपको बता दें कि स्थानीय बीजेपी विधायक मालिनी सिंह गौड़ के बेटे और हिंदू रक्षक संगठन के संयोजक एकलव्य सिंह गॉड ने एक शिकायत दर्ज करवाई जिसमें उन्होंने मशहूर कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी पर हिंदू देवी देवताओं तथा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का अपमान करने का आरोप लगाया।

जिसके बाद इंदौर पुलिस ने 1 जनवरी के दिन कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी सहित चार अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद उन्हें 13 जनवरी न्यायिक हिरासत में भेजा गया था लेकिन जब मामले की जांच की गई तो सच्चाई कुछ और ही निकल कर सामने आई।

जिन्हें गिरफ्तार किया गया वह वीडियो में थे ही नहीं

बता दें कि बीजेपी विधायक के बेटे और हिंदू रक्षक संगठन के संयोजक एकलव्य सिंह गौड़ ने कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी पर आरोप लगाते हुए पुलिस को एक वीडियो भी सौंपा था। लेकिन पुलिस द्वारा जब इस वीडियो की जांच की गई तो सामने आया कि उस वीडियो में मशहूर कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी मौजूद ही नहीं थे बल्कि इस वीडियो में दिखाई दे रहे शख्स कोई और हैं।

बीजेपी विद्यायक के बेटे ने किया था दावा

बता दें कि मशहूर कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी पर आरोप लगाते हुए बीजेपी विधायक के बेटे ने मीडिया के सामने यह दावा किया था कि उन्होंने मुनव्वर फारूकी को हिंदू देवी देवताओं का अपमान करते हुए देखा है जिसके बाद उन्होंने यह शिकायत दर्ज करवाई है। लेकिन पुलिस को वीडियो में ऐसा कोई सबूत नहीं दिखा।

वहीं आपको यह भी बता दें कि इंदौर के तुकोगंज थाना प्रभारी ने एक इंटरव्यू में खुद यह खुलासा किया कि उन्हें कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है। जो वीडियो बीजेपी विधायक के बेटे द्वारा दिया गया था उसमें कोई और कॉमेडियन भगवान गणेश पर मजाक करता हुआ दिख रहा है।

लेकिन मुनव्वर फारुकी के खिलाफ कोई सबूत नहीं है। ऐसे में अब सवाल उठता है कि नेताओं के इशारों पर पुलिस बिना जांच के किसी को कैसे गिरफ्तार कर सकती है।