VIDEO पश्चिम बंगाल: चुनाव आयोग का अब तक का सबसे शख़्त फ़ैसला से सभी दल परेशान…

कोलकाता: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में हिं’सा को लेकर चुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाया। आयोग ने एक दिन पहले यानी कल गुरुवार रात 10 बजे से बंगाल की 9 लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है। आयोग ने कहा कि हिं’सा की घटनाओं से हमें काफी दुख है। हमने पहली बार इस तरह से धारा 324 का इस्तेमाल किया है।

लेकिन, भविष्य में भी ऐसी घटनाएं हुईं तो हम फिर से सख्त कदम उठाएंगे। आयोग ने सीआईडी के एडीजी, प्रधान सचिव और गृह सचिव को भी हटा दिया है। चुनाव आयोग ने कहा कि कल यानी गुरुवार रात दस बजे के बाद लोकसभा चुनाव के आख़िरी चरण में पश्चिम बंगाल की नौ सीटों के लिए चुनाव प्रचार नहीं होगा।

आपको बता दें बंगाल में 19 मई को लोकसभा चुनाव के आख़िरी चरण का मतदान है और सामान्य स्थिति में इन पर चुनाव प्रचार 17 मई की शाम को ख़त्म होता लेकिन चुनाव आयोग ने एक दिन पहले ही ऐसा करने का फ़ैसला किया है।

चुनाव आयोग ने कहा कि यह शायद पहली बार है जब इलेक्शन कमिशन ऑफ इंडिया ने अनुच्छेद 324 का इस्तेमाल किया है. चुनाव आयोग कोलकाता में हिं’सा और ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने को दुखद बताया और उम्मीद जताई कि प्रदेश की सरकार दोषियों को जल्द पकड़ लेगी।

वही शाह के रोड शो में हिं’सा को लेकर तृणमूल कांग्रेस और भाजपा ने एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराया। शाह ने कहा कि हम शांति से रोड शो निकाल रहे थे, लेकिन तीन हमले हुए। अगर सीआरपीएफ न होती तो मेरा बचकर आना नामुमकिन था। दीदी से अपील करता हूं कि अगर कुछ छिपाना नहीं है, तो किसी निष्पक्ष एजेंसी से जांच कराएं।

उधर, तृणमूल ने भाजपा पर हिं’सा फैलाने का आरोप लगाया। तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा- की शाह बंगाल में बाहर से गुं’डे लेकर आए थे। भाजपा वालों ने ही पथराव किया और ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ा। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार शाम पैदल मार्च निकाला। इससे पहले ममता ने कहा कि क्या अमित शाह भगवान हैं, जो उनके खिलाफ प्रदर्शन नहीं किया जा सकता।