बड़ी खबर: आखिर यहाँ भी गिरा ही दी कांग्रेस की सरकार, मुख्यमंत्री ने इस्तीफा देते हुए केंद्र सरकार पर लगाये आरोप

पुडुचेरी विधानसभा में कांग्रेस की नारायणसामी सरकार अपना बहुमत साबित नहीं कर पाई है। सोमवार को स्पीकर ने एलान किया कि सरकार के पास बहुमत नहीं है, बहुमत होने के तुरंत बाद ही नारायणसामी ने उप राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया.

पंजाब नगर निकाय चुनाव के बाद हाल ही में मिजोरम नगर निकाय चुनाव के परिणाम घोषित हुए और अब इसके बाद पुडुचेरी से बड़ी खबर सामने आई है जिसमें कांग्रेस पार्टी अपनी सरकार बचाने में कामयाब नहीं हो पाई. हाल ही में आए पंजाब नगर निकाय चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया था लेकिन पुडुचेरी में इस बार भी कांग्रेस के हाथ मायूसी ही लगी है।

आपको बता दें पुडुचेरी में कांग्रेस अपनी सरकार नहीं बचा सकी. बीते सोमवार स्पीकर ने यह ऐलान किया कि नारायणसामी सरकार के पास बहुमत नहीं है. बता दें बीते सोमवार सदन में 1 दिन का विशेष सत्र भी रखा गया था जिसमे मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने यह ऐलान किया था कि उनके पास बहुमत है।

नारायणसामी ने दिया इस्तीफा

नारायणसामी ने विशेष सत्र शुरू होने के कुछ ही देर बाद विश्वास प्रस्ताव का मत रखा लेकिन मतदान शुरू होने से पहले ही उनके यह सत्ताधारी पक्ष के विधायक वाकआउट कर गए। जिसके तुरंत बाद ही स्पीकर शिवकोलन्धु ने यह घोषणा कर दी कि नारायणसामी विश्वास मत हार गए हैं। ऐसे में विधानसभा में बहुमत होने के तुरंत बाद ही नारायणसामी ने उप राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

केंद्र सरकार पर लगाया सरकार गिराने का आरोप

पुडुचेरी में कांग्रेस अपनी सरकार तो नहीं बचा सकी लेकिन मुख्य मंत्री नारायणसामी ने मतदान के ठीक पहले ही इसका आरोप केंद्र सरकार पर लगाया है। मुख्यमंत्री नारायण स्वामी विश्वास पत्र पर मतदान होने से पहले सदन में बोल रहे थे इस दौरान उन्होंने कहा कि पूर्व उप राज्यपाल किरण बेदी और केंद्र सरकार ने विपक्ष के साथ सांठगांठ कर सरकार को गिराने की कोशिश की है।

जब हमारे विधायक एकजुट रहे तो हम 5 साल निकालने में सफल रहे थे और जब हमने एक केंद्र सरकार से फंड देने की अपील की उन्होंने फंड नहीं दिया ऐसे में केंद्र सरकार ने पुडुचेरी के लोगों के साथ धोखा किया है।

यही नहीं उन्होंने आगे कहा कि पुडुचेरी की जनता हम पर विश्वास करती हैं हमने डीएमके और निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई थी जिसके बाद हम कई चुनाव लड़े और जीते भी। इससे स्पष्ट होता है कि पुडुचेरी की जनता को हम पर विश्वास है लेकिन अब केंद्र सरकार ने पुडुचेरी के लोगों के साथ धोखा किया है।