चीन का एक भी सैनिक नहीं मरा अगर लाठी लेकर ही लड़ना है तो RSS वालो को भेजो: कांग्रेस नेता

चीन और भारत की सीमा पर दोनों देशों के बीच चल रहे विवाद को लेकर बहस छिड़ी हुई है. इसी बीच कांग्रेस नेता हुसैन दलवाई ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर निशाना साधा है. उन्होंने सरकार से इस मुद्दे को लेकर कहा कि सीमा पर लाठी लेकर ही भेजना है तो आरएसएस वालों को भेज देना चाहिए था. हुसैन दलवई का वीडियो न्यूज एजेंसी एएनआई ने जारी किया है जिसमें वह आरएसएस और सरकार पर निशाना साधते नजर आ रहे हैं.

वीडियो में रिपोर्टर कांग्रेस नेता से सवाल करता है कि राहुल गांधी, सोनिया गांधी और ममत बनर्जी ने सवाल उठाए थे अब मोदी सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है. जिस पर जवाब देते हुए दलवई ने कहा कि बहुत अच्छी बात है देर से किया लेकिन सही किया. यकीनन यह पहला पहले ही लेना चाहिए था.

उन्होंने कहा कि क्या है घटना क्या है उसका पूरी तरह से सबको पता चलना बहुत जरूरी है. इसमें देश को विश्वास में लेना बहुत ही जरुरी है. लेकिन एक बात यह भी है कि चीन घुसपैठ बहुत किये है.

उन्होंने आगे कहा कि बहुत दुख की बात है कि हमारे 20 जवान मा’रे गए और वो बिना शस्त्र के गए थे. चीन के सैनिक भी बिना हथियारों के आए थे ऐसा बताया जा रहा है लेकिन वो साथ में जो लाठी लेकर आए उसमें किलें लगी हुई थी जिसने उन्होंने हमारे सैनिकों को मा’रा जबकि उनका एक भी जवान म’रा नहीं सारे हमारे म’रे.

उन्होंने कहा कि यह सब हमारी नीतियों का दोष है जो वो बिना हथियार गए. पहले वो लोग लड़ते कुछ होता तो मैं समझ सकता हूं लेकिन हमारे जवानों को लड़ने का अवसर ही नहीं मिल सका. उनके हाथ में लाठी देते हो ये क्या आरएसएस की शाखा है.

अगर लाठी ही देना है तो सैनिकों को वहां क्यों भेजते हो आरएसएस के लोगों को वहां भेज दो लाठी ले के वो करेंगे बॉर्डर पर सुरक्षा. आपको बता दें कि चीन और भारतीय जवानों के बीच लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को एक हिं’सक झड़प हो गई है जिसमें भारत के 20 जवान श’हीद हो गए थे. इस घटना पर देश भर में गुस्सा देखने को मिल रहा है.