कोरोना महामारी, भूख और मौत के बीच अमित शाह की वर्चुअल रैली पर बीजेपी ने खर्च किए 144 करोड़ रुपये? –

देश के गृहमंत्री और बीजेपी के बड़े नेता अमित शाह ने हाल ही में एक वर्चुअल रैली को संबोधित किया था. यह रैली बिहार वालों के लिए 7 जून को हुई है और इसे बिहार जनसंवाद नाम दिया गया था. बिहार जनसंवाद रैली में अमित शाह ने फेसबुक, यूट्यूब और बड़ी-बड़ी LED स्क्रीन्स के ज़रिए पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. रैली के दौरान शाह ने अपनी सरकार की तारीफ की और विपक्ष पर निशानेबाजी की जो वह हमेशा करते ही हैं.

अमित शाह की यह रैली इन दिनों चर्चा में बनी हुई है और इसकी वजह उनका कोई बयान नहीं बल्कि एलईडी टीवी हैं. दरअसल खबरों के मुताबिक बीजेपी ने रैली के दौरान राज्य के 72 हजार बूथों तक अपनी पहुंच बनाने के लिए 72 हज़ार एलईडी स्क्रीन का उपयोग किया. बस इसी बात पर अब हंगामा शुरू हो गया हैं.

amit shah 1

विपक्ष का आरोप है कि बीजेपी ने 72 हजार एलईडी पर करोड़ों रूपये खर्च किये हैं. राष्ट्रीय जनता दल नेता और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने एक ट्वीट करके कहा कि बीजेपी ने अपनी रैली के लिए 144 करोड़ रूपये तो सिर्फ और सिर्फ एलईडी  पर किये हैं.

यादव ने अपने ट्वीट में लिखा कि प्रचार के लिए एक एलईडी स्क्रीन पर औसत ख़र्च 20,000 रुपए आता हैं. बीजेपी ने आम जो रैली की हैं जिसमें 72 हज़ार LED स्क्रीन लगाए गये हैं. मतलब 144 करोड़ सिर्फ़ एलईडी स्क्रीन पर खर्च किए जा रहे हैं.

उन्होंने बीजेपी और केंद्र की मोदी सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि श्रमिक एक्सप्रेस का किराया 600 रुपए था, लेकिन वो देने में ना सरकार आगे आई और न ही बीजेपी. इनकी प्राथमिकता गरीब नहीं बल्कि सिर्फ चुनाव है.

tejashvi yadav

वहीं आरजेडी के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने दी लल्लनटॉप से बातचीत में बीजेपी पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि 72 हज़ार एलईडी टीवी की जगह हज़ार-दो हज़ार मज़दूरों तक राहत नहीं पहुंचाई जा सकती थी क्या?

इसके आलावा और भी कही यूजर है जो ट्वीट करके बीजेपी की आलोचना कर रहे हैं. इसी बीच एक यूजर ने लिखा कि अगर बीजेपी 72 हज़ार एलईडी के स्थान पर इस पैसे से 72 हज़ार बसों का इंतजाम कर देती तो 600 प्रवासी मजदूरों की जा’न बच सकती थी.

khusboo

वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा कि पीएम केयर फंड में आया पैसा कैंपेन, रोड शो, लाइट्स, कैमरे और एक्शन में खर्च हो रहा हैं क्या? वहीं इस मामले पर बीजेपी ने सफाई भी दी हैं. बिहार बीजेपी के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि विपक्ष के आरोप निराधार हैं हमनें कोई एलईडी नहीं खरीदी हैं.

उन्होंने कहा कि पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं ने अपने घरों की एलईडी स्क्रीन को घर के बाहर लगा लिया था जिस पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए 25 लोगों रैली को देखा था. जिन्होंने पूरे जीवन में सिर्फ घोटाले किए हैं उन्हें हर घोटाले ही नजर आते है उनकी समझ ही अलग हैं.

साभार- लल्लनटॉप