कोरोना सं’कट के बीच सऊदी सरकार ने लिया एक मिलियन से ज़्यादा प्रवासी मज़दूरों को नौकरी से निकालने का फैसला

जादवा इन्वेस्टमेंट कंपनी के अनुमानों के अनुसार 2020 के दौरान सऊदी श्रम बाजार से करीब 1.2 मिलियन प्रवासी कर्मचारीयो को निकाल दिया जाएगा. सऊदी अरब के इस कदम से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले क्षेत्र में आतिथ्य, खाद्य सेवाएं, प्रशासनिक और समर्थन गतिविधियां जिनमें किराया और पट्टे की गतिविधियां भी शामिल होगी, ट्रैवल एजेंसियां, सुरक्षा और भवन सेवाएं शामिल हो सकती हैं.

माना जा रहा है कि इन क्षेत्रों से बड़ी तादात में प्रावासियों को निकला जा सकता है. दरअसल इन क्षेत्रों में प्रवासियों का उच्चतम प्रतिशत है. जादवा की रिपोर्ट में कहा गया है कि बड़ी तादात में विदेशियों के जाने के बाद भी सउदी के बीच बेरोजगारी की दर 2020 के अंत तक 12 प्रतिशत पर अपरिवर्तित रह सकती है.

जादवा के अनुमानों के अनुसार कई क्षेत्रों में कोरोना वायरस के चलते काफी नुकसान देखने को मिला है और जहां निकट भविष्य में अपनी व्यावसायिक गतिविधियों में पूरी तरह से वापसी होने की उम्मीद नहीं है. खास तौर पर यात्रा, होटल, रेस्तरां, पर्यटन और मनोरंजन क्षेत्र लॉकडाउन से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए है.

रिपोर्ट के अनुसार मानव संसाधन और सामाजिक विकास मंत्रालय ने बेरोजगारी बीमा सहायता योजना शुरू की है जो सऊदी नागरिकों को निजी क्षेत्रों में अपनी नौकरियों बनाए रखने में मदद देगी और विदेशी कर्मचारियों को बदलने के कुछ उपायों में मदद देगी.

जादवा ने कहा कि इस योजना के सऊदी लाभार्थियों की संख्या 450,000 तक पहुंच गई जो पिछले महीने तक 90,000 से अधिक कंपनियों और प्रतिष्ठानों में काम करने में लगे हुए है. इस योजना के तहत इन पर लगभग SR2.4 बिलियन खर्च किये जा चुके है जो योजना के लिए आवंटित बजट का करीब 37 प्रतिशत है.

स्वास्थ्य बीमा कवरेज के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो यह उम्मीद की जा रही है कि पीएमआई रोजगार में अधिकांश मंदी विदेशी श्रमिकों के बीच छंटनी से संबंध रखती है और छंटनी निकट भविष्य में भी जारी रहने की उम्मीद है.

जादवा की रिपोर्ट के मुताबिक यह आशा लगाई जा रही है कि साल के अंत तक सऊदी की अर्थव्यवस्था में सुधार होगा और यह सुधार सऊदी के नागरिकों के रोजगार के लिए बेहतर संभावनाएं अपने साथ लाएगा, जो कि बढ़ती अनिश्चितता के साथ जुड़ा हुआ है. विशेष तौर पर प्रावासियों की बजाए सऊदी नागरीको को काम दिया जाएगा.

साभार- दवर्ल्डन्यूज़हिंदी