कोविड-19 के चलते दिल्ली आजतक ही नहीं बल्कि यह 40 चैनल हो सकते हैं बंद, टीवी उद्योग में डर का माहौल

कोविड-19 के चलते लगाए गए लॉकडाउन ने टीवी उद्योग बहुत ही बुरी तरह से प्रभावित है. माना जा रहा है कि इस हफ्ते के अंदर ही कई चैनलों का प्रसारण बंद हो सकता हैं. द प्रिंट की खबरों के मुताबिक इस हफ्ते से मनोरंजन चैनल एएक्सएन (AXN) और एएक्सएन एचडी (AXN HD) और इसके आलावा न्यूज़ चैनल दिल्ली आज तक का प्रसारण बंद किया जा सकता हैं. ऐसा भी माना जा रहा है कि चैनल पर प्रसारण बंद होने का यह सिलसिला और भी बढ़ सकता हैं.

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया ने घोषणा की है कि वह 1 जुलाई 2020 से अपने लोकप्रिय अंग्रेजी मनोरंजन चैनलों AXN और AXN HD को बंद करने जा रहा है और उसी दिन इंडिया टूडे समूह का एक हिंदी समाचार चैनल दिल्ली आज तक भी बंद हो सकता हैं.

लॉकडाउन के चलते विज्ञापन में रेवेन्यू में कमी आई है और ठप शूटिंग भी टीवी उद्योग में विकट स्थिति का कारण बने हैं. हालांकि चैनल प्रबंधन ने अपने बयान में चैनल बन होने का करना कोरोना वायरस को या लॉकडाउन को नहीं बताया है लेकिन सूत्रों की मानें तो लॉकडाउन के चलते प्रसारण व्यवसाय पर बुरा प्रभाव पड़ा है.

अप्रैल में बार्क-निलसन रिपोर्ट के मुताबिक सामान्य मनोरंजन चैनल जनवरी की तुलना में लॉकडाउन के समय विज्ञापन नहीं मिलने के चलते 26 फीसदी तक घाटे का सामना कर रहे हैं. इसमें न्यूज़ चैनल भी प्रभावित हो रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान उनकी टीआरपी तो बढ़ी है लेकिन इसने उन्हें विज्ञापन और रेवेन्यू हासिल करने में मदद नहीं की हैं.

गुरुवार को रेटिंग एजेंसी आसीआरए ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते फिल्म निर्माण और प्रदर्शनी, प्रिंट मीडिया और टेलीविजन प्रसारण का क्रेडिट आउटलुक निगेटिव रहा है. एएक्सएन और एएक्सएन इंडिया को कथित तौर पर भारत के टॉप अंग्रेजी मनोरंजन चैनलों में रैंक हांसिल हैं.

वहीं इंडिया टूडे ने  बीएसई की अपनी फाइलिंग में जानकारी थी कि दिल्ली-एनसीआर की खबरों को कवर करने वाले दिल्ली आजतक ने 2019-20 में कंपनी के राजस्व में सिर्फ 1 फीसदी से भी कम का योगदान दिया है. इसका व्यवसाय पिछले कुछ वर्षों में विकसित नहीं हुआ हैं. इसी के चलते इसे बंद करने का फैसला लिया गया हैं.

वहीं उद्योग जगत से जुड़े कुछ अंदरूनी सूत्रों ने द प्रिंट को बताया कि चैनलों के बंद होने से चैनल में मौजूद नौकरियां प्रभावित नहीं होंगी क्योंकि कर्मचारी को दूसरे वर्टिकल में शिफ्ट कर दिया जाएगा.

लॉकडाउन लागू होने से टीवी उद्योग बहुत प्रभावित हुआ है. इसमें समग्र रूप से अर्थव्यवस्था पर भारी असर डाला है. उद्योग के एक सूत्र ने बताया कि इसका खामियाजा छोटे खिलाड़ियों को भुगतना पड़ेगा. अगर जल्द ही स्थिति में सुधार नहीं होता है तो लगभग 40 टीवी चैनल बंद करने पड़ सकते हैं.