दविंदर सिंह मामले में दिल्ली पुलिस ने दाखिल नहीं की चार्जशीट, भड़के कुमार विश्वास, बोले- उसने कहा था यह बहुत बड़ा गेम है…

जम्मू कश्मीर में आतं;कि’यों की मदद करने के आरोपी दविंदर सिंह को कोर्ट से जमानत मिल गई हैं. दविंदर सिंह को जमानत मिलने का मामला तूल पकड़ता जा रहा हैं और लोग उन्हें जमानत मिलने का विरोध कर रहे है. वहीं इस मामले पर दिल्ली पुलिस के ढीले और गैरजिम्मेदाराना रवैये पर डॉ. कुमार विश्वास ने कड़ी नाराजगी जाहिर की हैं. ट्वीटर पर किये अपने ट्वीट में उन्होंने दिल्ली पुलिस को आड़े हाथों लेते हुए अपनी भड़ास निकाली.

कुमार विश्वास ने अपने ट्वीट में कहा कि घाटी में हिज़बुल के टॉप कमांडर के साथ रंगे हाथों पकड़े गए पुलिस के पूर्व डीसीपी दविंदर सिंह के ख़िलाफ़ पुलिस 90 दिनों में चार्जशीट दाखिल नहीं कर सकी? जब उसे पकड़ा गया था तो उसने पुलिस अधिकारियों से कहा था- सर जी ये बहुत बड़ा गेम है, आप गेम ख़राब मत करो. वो सही था, आप लोग बस नारे लगाते रहो.

कुमार विश्वास के इस ट्वीट पर कई यूजर्स ने भी प्रतिक्रिया देते हुए सरकार व दिल्ली पुलिस की जमकर आलोचना कर रहे है. एक यूजर ने तंज कसते हुए कमेन्ट किया कि ज्यादा मत बोलिये सर, वर्ना आप को भी देशद्रो’ही घोषित कर दिया जाएगा.

वहीं सुरेंद्र नाम के अन्य यूजर ने कमेंट में लिखा कि आने वाले दिनों में देविंदर सिंह को भी चुनाव लड़ाया जाएगा. आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह को बीते शुक्रवार को दिल्ली की एक अदालत ने जमानत दे दी थी.

कोर्ट को दविंदर सिंह को इसलिए जमानत देना पड़ा क्योंकि दिल्ली पुलिस ने तय समय में भी चार्जशीट दाख़िल नहीं की थी. जिसके चलते उसे कोर्ट ने जमानत दे दी. दविंदर के अलावा इरफान शफी मीर भी जमानत हासिल करने में कामयाब रहा.

बता दें कि इस साल की शुरुआत में ही दविंदर सिंह को आतं’क’वादी संगठन हिज़बुल मुजाहिदीन के दो आतं’कवा’दियों के साथ श्रीनगर-जम्मू हाईवे पर कार में दबोचा गया था. इसके बाद दविंदर को सस्पेंड कर दिया गया था.

आ’तंकि’यों के साथ दविंदर सिंह के पकड़े पाने पर देश भर में खूब हंगामा मचा था. लेकिन अब 90 दिन बीत जाने के बाद भी चार्जशीट दाखिल न कर पाने के चलते दिल्ली पुलिस की मंशा सवालों के घेरे में आ गई है.

हालांकि दविंदर सिंह जमानत हासिल करने के बाद भी रिहा नहीं हो सकेगा. दरअसल एनआईए (NIA) ने दविंदर सिंह की जमानत पर कहा है कि वह अभी भी न्यायिक हिरासत में ही रहेगा. दरअसल एजेंसी के पास तमाम सबूत हैं और जल्द ही एनआईए चार्जशीट भी दाखिल करने वाली है.