दिल्ली मरकज़ मामले में साकेत कोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला, 275 से ज़्यादा विदेशी जमातियों को सुनाई सजा, लगाया जुर्माना

देश और दुनिया में जिस समय कोरोना ने अपने पैर फ़ैलाने शुरू किये थे, उसी दौरान दिल्ली मरकज का मामला सामने आया हैं. मार्च महीने में निजामुद्दीन मरकज में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमें कई विदेशी जमाती शामिल हुए है, जिसके बाद इन्हें हिरासत में ले लिया गया था. जिसके बाद अब साकेत कोर्ट ने दिल्ली मरकज मामले में 275 से ज्यादा विदेशी जमातियों पर सुनवाई की और उन्हें सजा भी सुनाई हैं.

साकेत कोर्ट ने विदेशी जमातियों को टिल राइजिंग कोर्ट यानी कि एक दिन कोर्ट रूम में खड़े रहने की सजा सुनाई गई हैं. इसके साथ ही सभी विदेशी जमातियों पर 5 से 10 हजार रुपए का जुर्माना भी ठोका गया हैं. कोर्ट के सामने विदेशी जमातियों ने अपनी गलती मानी और कबूल किया कि उन्होंने कोरोना महामारी के नियमों का उलंघन किया हैं.

इसके अलावा फॉरेन एक्ट, डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट, और IPS की कई धाराओं की अवहेलना का मामला दर्ज किया गया था जिन्हें उन्होंने कबूल लिया है. बताया जा रहा है कि इन विदेशी जमातियों में चाइना, नेपाल, इंडोनेशिया, विजी, आस्ट्रेलिया और बाकी अन्य देशों से लोग भारत आकर मरकज़ में शामिल हुए थे.

आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस ने मरकज़ मामले में 31 मार्च को कई बड़ी धाराओं में केस दर्ज किया था. देश और विदेश से 13 मार्च को मरकज़ में शामिल होने के लिए बड़ी तादात में लोग आए थे.

बता दें कि इन पर आरोप है कि उन्होंने वीजा नियमों का उल्लंघन किया. आरोपों के अनुसार विदेशी ज़माती टूरिस्ट वीज़ा पर भारत घूमने की परमिशन लेकर आए थे लेकिन यहां पर धार्मिक गतिविधियों में शामिल हुए.

आरोप है कि इन विदेशी जमातियों में कई कोरोना संक्र’मि’त थे. इतना ही नहीं इन लोगों की लापरवाही के चलते ही दिल्ली में कोरोना वायरस के संक्र’मण और अधिक फ़ैल गया ऐसे आरोप जमातियों पर लगाए गए थे.

इन्ही की वजह से ही दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के आरोपों के चलते पुलिस ने कई विदेशी नागरिकों के खिलाफ ममाले दर्ज करके उन्हें हिरासत में लिया था.

साभार-एनडीटीवी