CAA 2019- दिल्ली में हालात और भी ज़्यादा ख़राब, प्रदर्शनकारियों ने 4 बसों को फूँका

सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल को लेकर देशभर में उग्र प्रदर्शन हो रहे हैं. अभी कल ही पश्चिम बंगाल में प्रदर्शनकारियों ने जमकर तोड़फोड़ की थी, इसके अलावा 5 ट्रेनों को भी उन्होंने आग के हवाले कर दिया था. इधर दिल्ली में भी जामिया के छात्रों पर शनिवार को पुलिस बल द्वारा लाठियां भांजी गयीं थीं. जामिया में छात्रों को तितर बितर करने के लिए कई आंसू गैस के गोले भी दागे गए थे.

दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में छात्र संसद तक मार्च करना चाहते थे, लेकिन उनको पुलिस सुरक्षा बलों ने गेट पर ही रोक दिया, और छात्रों का कहना था कि छात्रों को रोकने के लिए पुलिस ने पहले पथराव किया जिसके बाद छात्रों ने अपने बचाव के लिए पुलिस वालों पर भी पथराव किया.

इस प्रदर्शन में शामिल नहीं थे, जामिया के छात्र

Protest Against Cab 2019 At Delhi

इसके बाद यह प्रदर्शन काफी उग्र हो गया था, यह शनिवार की बात थी. आज रविवार को भी जामिया के पास के एक इलाके में नागरिकता संशोधन बिल को लेकर काफी जमकर विरोध प्रदर्शन हुआ, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस प्रदर्शन में जामिया के छात्र नहीं थे, इधर भी प्रदर्शनकारी हिं’सा पर उतर आए.

सिटीजनशिप बिल के खिला’फ इन प्रदर्शनकारियों ने सराय जुलेना में चार बसों को भी फूँक दिया, बसों में लगी आग को बुझाने के लिए चार-पांच दमकल की गाड़ी पहुंची थीं, लेकिन प्रदर्शनकारियों ने इनमें से एक गाड़ी के साथ तोड़फोड़ की और फायरमैन को भी इसमें चोटें आई हैं.

Protest At Delhi Against CAA 2019

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्र पिछले 3 दिन से सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. इनका मानना है कि यह बिल एक तरह से देश को बर्बादी की ओर धकेलने का प्रयास है. सरकार देश के ज़रूरी मुद्दे जैसे रोज़गार, विकास और देश की बदहाल अर्थव्यवस्था को छोड़कर देश की जनता को गुमराह करना चाहती है.

बीबीसी हिंदी के दिए गए इस वीडियो को, देखने के बाद पता चलता है कि दिल्ली के हालात कितने ठीक हैं. गृहमंत्री अमित शाह ने जब से नागरिकता संशोधन बिल पेश किया है, तब से ही देश के सभी राज्यों से इस नागरिकता संशोधन बिल के खिला’फ ज़ोरों से आवाज उठ रही है.

अब तक कई लोगों की जान भी, इन प्रदर्शनों मैं जा चुकी है. अभी हाल ही में हमारे देश में जापान के राष्ट्रपति शिंजो आबे आने वाले थे. असम के हालात देखते हुए उन्होंने अपना गुवाहाटी का दौरा रद्द कर दिया. इसके अलावा बांग्लादेश के गृह मंत्री और विदेश मंत्री का भी भारत दौरा था, देश में चल रहे ऐसे प्रदर्शनों को देखते हुए उन्होंने भी अपना दौरा रद्द करना उचित समझा.

Leave a Comment