कौन हैं अंखी दास? जिसे दो दिन में ही मिलने लगी जान से मा’रने की धम’कियां

अमेरिका अख़बार वॉल स्ट्रीट जर्नल में प्रकाशित हुए एक लेख में फेसबुक और सत्ताधारी बीजेपी के संबंधों पर दी गई जानकारी के बाद शुरू हुआ सियासी हंगामा थमने का नाम ही नहीं ले रहा हैं. इसी लेख को लेकर अब फेसबुक की पब्लिक पॉलिसी डायरेक्‍टर (इंडिया, साउथ एशिया व सेंट्रल एशिया) अंखी दास को परेशानियां उठानी पड़ रही है. अब सोशल मीडिया पर अंखी दास को लगातार ध’म’कियां मिलने लगी है.

इसके बाद रविवार देर रात को नीतिबाग निवासी अंखी दास ने दक्षिणी दिल्ली के सीआर पार्क थाने में सोशल मीडिया के द्वारा उन्हें धम’की दी जा’ने की शिकायत दर्ज कराई हैं.

अंखी ने शिकायत में बताया है कि 14 अगस्त को वॉल स्ट्रीट जर्नल में छपे गए एक लेख को लेकर फेसबुक व ट्विटर पर लोग उन्हें धम’कि’यां दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि ऑनलाइन पोस्टिंग/कंटेंट के जरिये उनके जीवन को ख’तरा है.

इसके साथ ही अंखी ने अपनी शिकायत में कुछ ट्विटर और फेसबुक हैंडल का लिंक भी पुलिस को दिया हैं, जिन के द्वारा उन्हें ध’म’की मिल रही है. इसके साथ ही उन्होंने अपने व अपने परिवार के लिए पुलिस से सुरक्षा की मांग भी की है.

दक्षिणी दिल्ली जिले के पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने इस मामले को साइबर सेल को ट्रांसफर कर दिया हैं. साइबर सेल ने इस मामले को लेकर जांच पड़ताल शुरू कर दी हैं. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि सुरक्षा दी जाने को लेकर फैसला प्राथमिक जांच के बाद संबंधित एजेंसी द्वारा किया जाएगा.

अंखी दास ने पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में कहा है कि वॉल स्ट्रीट जर्नल में 14 अगस्त को फेसबुक को लेकर जो लेख प्रकाशित किया था उसी के बाद उन्हें लगातार ध’म’की दी जा रही हैं.

फेसबुक व ट्विटर समेत कई सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर उनकी तस्वीरों के साथ तमाम पोस्ट वायरल की जा रही हैं जिनमें उनके खिलाफ यौ’न आधारित व हिं’सक टिप्पणी की जा रही हैं. इससे उन्हें व उनके परिवार के लोगों को जा’न का खत’रा है.

उन्होंने शिकायत में यह भी बताया कि आरोपी व्यक्ति किसी खास राजनीतिक विचारधारा से जुड़े हुए हैं. उन्होंने पुलिस से अनुरोध किया है कि मामले पर जल्द से जल्द कार्रवाई करके आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए.