युएई में कहीं भी हुई भारतीय की मौ’त तो नहीं जाएगा श’व घर, युएई में ही होगा दफ़न अगर नहीं किया यह काम

दुनिया भर में कोविड-19 का कहर जारी है, दुनिया भर में लोग कोरोना वायरस के चलते परेशान हो रहे है. वहीं ऐसे लोग जो रोजगार की तलाश में अपने घरों से दूर खास तौर पर दुसरे देशों में गए थे वो वहां फंसे हुए है. कोरोना वायरस के चलते अधिकतर देशों में लॉकडाउन है जिससे सभी कामकाज बंद हो गया है. ऐसे में विदेशों में फंसे लोगों के सामने दो वक्त के खाना समेत कई तरह की समस्याओं को झेलना पड़ रहा हैं.

इसी बीच संयुक्त अरब अमीरात ने एक बड़ा फैसला लिया है. कोविड-19 के चलते बनी स्थितियों को देखते हुए यहां की सरकार ने तय किया है कि अगर अब यहां किसी भी प्रवासी की मौ’त होती है तो उसका श’व उनके देश नहीं भेजा जाएगा.

संयुक्त अरब अमीरात से दुबई स्थित कांसुलेट (Consulate) जनरल ऑफ इंडिया ने एक नया संदेश जारी करते हुए दूतावास ने बताया है कि कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए कंपनी, स्पॉन्सर और परिवार के ओर से संयुक्त अरब अमीरात में मौ’त हो चुके कामगारों के श’व को क्लेम करने या उसकी जानकारी देने में देर की जा रही हैं.

अब युएई सरकार द्वारा जारी नए आदेशों के अनुसार अगर तय समय में इसकी जानकारी पेश नहीं की गई या दावा नहीं किया गया तो स्थानीय कानून के मुताबिक सरकार के अधिकारियों के द्वारा स्थानीय स्तर पर ही श’व का अंतिम संस्कार कर दिया जाएगा.

वहीं मृ’त्यु के मामले में सबसे पहले जानकारी कंपनी, स्पांसर या मृ’तक के परिवार और उसके दोस्तों को दी जाती है. लेकिन कई मामलों में देखा गया है कि वाणिज्य दूतावास ने स्थानीय औपचारिकताओं को पूरा करने के चलते नियोक्ताओं और स्पॉन्सर की तरह से अनुचित देरी कर दी जाती हैं.

ऐसे में कोविड-19 की मा’र झेल रहे हॉस्पिटल और सरकार पर श’वगृह और अन्य सुविधाओं पर इससे अतिरिक्त बोझ पड़ता हैं. इसी को देखते हुए वाणिज्य दूतावास ने सभी नियुक्त और स्पॉन्सर से अपील की है कि भारतीय नागरिक की मृ’त्यु होने की स्थिति में इसकी सुचना तुरंत दी जाए.

इसके लिए दूतावास ने अपना आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर +971-507347676 भी जारी किया है जिस पर संपर्क साधना है. इसके आलावा स्थानीय स्तर पर या भारत में अंतिम संस्कार हो सके इसके संबंध में सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए तत्काल कदम उठा जाएंगे.

साभार- गल्फहिंदी डॉट कॉम