बढ़ सकती हैं दीपक चौरसिया की मुश्किलें, मुस्लिम समुदाय को लेकर फर्जी खबर फैलाने के आरोप में को भेजा गया नोटिस

न्यूज नेशन के कंसल्टिंग एडिटर दीपक चौरसिया मुश्किलों में फंसते नजर आ रहे हैं. हाल ही में उन्होंने केरल में गर्भवती हथिनी की ह’त्या के मामले में एक फर्जी ट्वीट कर दिया था जिसके बाद वह लोगों के निशाने पर आ गए थे. अब दीपक के खिलाफ कानून कार्रवाई होने जा रही हैं. दीपक को उनके फर्जी ट्वीट के लिए कानूनी नोटिस थमा दिया गया हैं. दरअसल दीपक ने इस मामले में एक समुदाय विशेष को जानबूझकर बदनाम करने की कोशिश की थी.

दीपक चौरसिया ने ट्वीट किया था कि गर्भवती हाथी की ह’त्या के मामले में पुलिस ने दो मुस्लिम पुरुषों को हम’ला’वर के रूप में पहचाना हैं और दीपक में अपने ट्वीट में दो नाम भी दिए थे. उन्हें जारी किये गए नोटिस में उनके इस करतूत को जानबूझकर, शरारती और मुस्लिम समुदाय को आहत पहुंचाने के इरादे से प्रेरित बताया गया हैं.

न्यूज एसडी की खबर के अनुसार दीपक चौरसिया को यह नोटिस डॉक्टर फारुख खान ने भेजा हैं. आपको बता दें कि दीपक चौरसिया के ट्वीटर पर 4 लाख से भी ज्यादा फॉलोवर हैं, ऐसे में उनके द्वारा की गई कोई भी पोस्ट व्यापक पहुंच बनती है. अगर यह पोस्ट फर्जी है तो यह सांप्र’दायि’क माहौल बिगड़ने के लिए प्रर्याप्त साबित हो सकती हैं.

दीपक ने यह ट्वीट करने के कुछ समय बाद ट्वीट कर लिया था लेकिन जब तक इसे बड़ी तादात में लोग देख चुके थे और हजारों की तादात में रीट्वीट भी कर चुके थे. उनके इस फर्जी न्यूज़ के गंभीर परिमाण भी सामने आ सकते थे.

दीपक ने अपने ट्वीट में लिखा था कि केरल के गर्भवती हथिनी की ह’त्या के केस में दो लोग गिरफ्तार किये गए है- अमजत अली और तमीम शेख. इन आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए.

लेकिन दीपक चौरसिया का दावा फर्जी साबित हुआ. जिसके चलते उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया लेकिन तब तक यह सोशल मीडिया पर वायरल हो चूका था और इसके स्क्रीनशॉट भी लिए जा चुके थे जो बाद में भी वायरल होते रहे.

दीपक चौरसिया को नोटिस भेजने वाले डॉ.खान ने कहा कि दीपक चौरसिया ने मुस्लिम समुदाय को टारगेट किया और सोशल मीडिया के जरिए फर्जी खबरों का प्रसारण किया. उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार नहीं है जब उन्होंने समुदाय विशेष को बदनाम करने की कोशिश की हो बल्कि उनके ट्वीट और उनका लहजा ही इस बात का प्रतीक होता है कि इस देश में होने वाली सभी गड़बड़ियां मुस्लिमों द्वारा की जाती हैं.