भीष’ण ठंढ में ठंडे पानी को बंद करने के लिए ‘वाटर कैनन’ वैन पर कू’दा नौजवान किसान, सोशल मीडिया वायरल हुआ वीडियो

वायरल वीडियो जवान किसान की जिसने वाटर कैनन की गाड़ी पर चढ़कर पानी को बंद किया और फिर गाड़ी के ऊपर से ही छलां'ग लगाकर अपने ट्रैक्टर को आगे बढ़ाया..

नई दिल्ली: तीन कृषि कानूनों के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली में चल रहे किसानों के प्रदर्शन में शुक्रवार की रात दिल्ली बॉर्डर और मेरठ के टोल प्लाजा पर कटी। भीष’ण ठंढ में भी किसान पूरी रात डटे रहे, बता दें दिल्ली बॉर्डर पर भारी सुरक्षा बल की तैनाती की गई है. वही केजरीवाल सरकार द्वारा बुराड़ी ग्राउंड में शांतिपू’र्ण प्रदर्शन की इजाजत मिलने के बाद पंजाब और हरियाणा से किसानों का नया ज’त्था भी रवाना हो चुका है।

आपको बता दें केंद्र सरकार द्वारा लाये गए कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले कई महीनों से आंदोलन कर रहे किसानों का कल गुरुवार को भी यह किसान आंदोलन जारी रहा इस दौरान आज एक ऐसी तस्‍वीर सामने आई जो विरोध और कार्रवाई के तरीके को नए ढं’ग से परिभाषित करती है। आज पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर वॉटर कैनन का प्रयोग किया।

delhi hariyana

आंदोलनकारियों का दिल्ली करनाल हाईवे पर पुलिस के साथ संघर्ष हुआ, किसानों पर आं’सू गै’स के गो’ले छोड़े गए और वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया। इस दौरान एक नौजवान किसान ने अपने पैरों से इसे रोकने का प्रयास किया, इस दौरान किसी ने इस नौजवान किसान का वीडियो शूट कर लिया और अब यह इंटरनेट पर वायरल हो रहा है।

आपको बता दें दिल्ली को हरियाणा से छोड़ने वाले सिंधु बॉर्डर पर सैकड़ो किसान जमा हो गए थे। इस बीच, 26 साल के नौजवान किसान नवदीप सिंह कड़ी सर्दी में जब मोदी सरकार किसानों पर गं’दा, और ठंडा पानी बरस’वा रही थी तब ये नौजवान वॉटर केनन पर चढ़ गया। आसपास चारों और पुलिस आर्मी खड़े थे।

 

इस नौजवान किसान ने साहस दिखाया और तब तक वॉटर केनन की पाइप से लटका रहा जब तक कि पानी बरसाने वाली वॉटर केनन बंद नहीं हो गई। वही मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार नौजवान पर केंद्र सरकार ने म’र्ड#र का केस लगा दिया है। केवल म’र्ड#र ही नहीं नवदीप पर मोदी सरकार ने महा’मा’री के उल्लंघन और दं#गा भ’ड़का’ने के चार्जेस लगाते हुए भी FIR दर्ज कर ली है।

गौरतलब है की, देश के कई हिस्सों में किसानों ने जुलूस निकाले और सड़कों और रेलवे लाइनों को भारत बंद के आह्वान के तहत कई यूनियनों द्वारा दिए गए बिलों के खिलाफ किसान विरो’धी माना गया।