किसान महाआंदोलन: दिल्ली से लेकर बंगाल तक किसानों के भारत बंद का असर, कहीं पर चक्का जाम तो कहीं पर रोकी गई ट्रेने

पूरे देश में भारत बंद का असर, किसानों ने किया चक्का जाम, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी किया अरेस्ट

नई दिल्ली, 8 दिसम्बर 2020: किसान आंदोलन को चलते हुए 12 दिनों से ज्यादा का समय बीत चुका है। किसानों और सरकार के बीच अभी तक की सभी वार्ताएं बेनतीजा रही हैं। ऐसे में किसानों ने आज 11 से 3 बजे तक भारत बंद का ऐलान किया था जिसका असर देश के कई राज्यों में दिख रहा है। बता दें कि देश भर के किसान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नई कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले 10 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं।

वही पंजाब और हरियाणा के किसान सिंधु बॉर्डर पर डटे हुए हैं। किसानों की सरकार से मांग है कि वे तीनों ही कृषि कानूनों को वापस ले जब तक सरकार इन तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं ले लेती तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा इसी सिलसिले में आज 8 दिसंबर को किसानों ने भारत बंद का एलान किया था।

भारत बंद को विपक्षी पार्टियों का समर्थन:-

BHARAT BAND

किसान आंदोलन में देखते ही देखते राजनीति के दिग्गज उतर आए हैं जो कि किसानों को समर्थन देते हुए दिख रहे हैं। किसानों के भारत बंद को भी लगभग सभी विपक्षी पार्टियों का समर्थन मिल रहा है जिसमें सपा, कांग्रेस ,एनसीपी और आम आदमी पार्टी भी शामिल है। बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किसानों के समर्थन में उतरने की घोषणा की।

कल सोमवार को सीएम अरविंद केजरीवाल किसानों से मिलने भी गए थे जिसके बाद से ही उन्हें अपने निजी निवास में नजरबंद कर दिया गया है। लेकिन फिर भी किसानों के बंद के आह्वान का असर पूरे देश में दिख रहा है राजधानी दिल्ली से लेकर पश्चिम बंगाल तक भारत बंद का असर दिख रहा है।

वहीं दिल्ली एनसीआर में कैब टैक्सी की सुविधाएं भी बंद हो गई हैं। जबकि मेट्रो सेवा पर बंद का कोई असर नहीं पड़ेगा वह सुचारु रुप से चलती रहेगी। किसानों के भारत बंद को मंडी समितियों ने भी समर्थन दिया है ऐसे में लोगों को कई समस्याएं देखने को मिल सकती हैं।

जिनमें फल और सब्जियों की आपूर्ति पर असर पड़ सकता है। भारत बंद पर किसान नेता बलवीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि मंगलवार को सुबह 11 से 3 बजे तक चक्का जाम किया जाएगा। ऐसे में दूध और जरूरी सामान की आपूर्ति भी बाधित हो सकती है।