किसानों ने मोदी सरकार का लंच ठुकराया, बोले “हम अपना खाना साथ लाए हैं” वही खायेंगे

किसानों ने विज्ञान भवन के अंदर अपने साथ लाया हुआ खाना खाया, हालाँकि उनसे लंच करने का आग्रह किया गया था जो उन्होंने ठुकरा दिया

दिल्ली: (Government Meet With Farmers) पिछले 7 दिनों से केंद्र सरकार के द्वारा लागू किए गए नए कृषि कानूनों को लेकर अलग-अलग राज्यों के किसान आंदोलन कर रहे हैं. आज दिल्ली के विज्ञान भवन में दोपहर को किसानों को बातचीत के लिए बुलाया गया 12 बजे बैठक शुरू हो चुकी थी, और इस बैठक में किसान संदर्भ सहित अपनी समस्याओं को समझा रहे थे.

सरकार की तरफ से तथा किसान दोनों ही, कृषि कानूनों के हर एक पहलू पर बारीकियों से बात कर रहे थे. ताकि इस बातचीत से कोई सकारात्मक हल निकल कर सामने आए और किसान इस आंदोलन को बंद कर दें. बैठक के दौरान लंच ब्रेक का समय भी हो गया था.

Kisanon Ne Sarkar Ka Khana Nahin Khaya

लंच ब्रेक में किसानों ने नहीं खाया सरकार का खाना

किसानों के साथ चली इस बैठक में जब लंच ब्रेक का समय हुआ तो, किसानों ने सरकार द्वारा दिए गए लंच को नहीं खाया, यहां तक की उनकी दी हुई चाय तक को ठुकरा दिया. किसानों द्वारा मीडिया को बताया गया कि अभी लंच ब्रेक हुआ है और सरकार की तरफ से हमें खाना खाने का और चाय का ऑफर दिया था, लेकिन हमने मना कर दिया.

किसानों ने उनसे कहा कि “हम अपना खाना साथ ही लेकर आए हैं” जो लंगर में बन रहा है हम वही खायेंगे. सोशल मीडिया के द्वारा ली गई एक तस्वीर को देखने से साफ पता चल रहा है, कि किसानों ने नीचे जमीन पर बैठ कर विज्ञान भवन में अपना खाना खाया.

कृषि कानून को लेकर, किसानों का कहना है कि चाहे 6 महीने से भी ज्यादा का समय हो जाए, हम इस कानून को रद्द करवा कर ही मानेंगे. इसके अलावा किसानों ने मोदी सरकार एक चे’तावनी भरे लहजे में ये भी कहा है कि अगर जल्द ही इन तीनों किसान कानूनों को सरकार कुछ नहीं करती है, तो वह दिल्ली के हर रास्ते को ब्लॉक कर देंगे.

किसानों की मांग, तीनों कृषि कानूनों को रद्द किया जाए

किसानों ने मांग की है कि सरकार, विशेष सत्र बुलाकर इन तीनों कानूनों को रद्द करें. फिलहाल पंजाब और हरियाणा समेत कई और राज्यों के किसान इनके आंदोलन में साथ हैं. इसके साथ ही कई बॉलीवुड हस्तियां भी इनके समर्थन में उतरी हैं.

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत किसी भी एंगल से किसानों का समर्थन करती नज़र नहीं आ रही हैं, उनके दिए गए दो तीन बयानों से ऐसा लगता है कि किसानों का समर्थन करने वाले कुछ लोगों से वे बेहद नाराज़ हैं.

हाल ही में कंगना रानौत ने एक किसान की 65 वर्षीय मां का फोटो लेकर, ट्वीट करके उनके लिए वि’वादित शब्द कहे थे. जिसके बाद कंगना रानौत पर कानूनी कार्यवाही करने के लिए लीगल नोटिस भी भेजा जा चुका है.