VIDEO: उपवास पर बैठे भाजपा नेताओं को किसानों ने दौड़ाया, कहा ढोंगी है ये लोग दिखावा कर रहे हैं

भाजपा के नेता कर रहे थे किसान सम्मेलन, एक दिन का रखा था उपवास किसानों ने पहुंचकर उखाड़े तंबू

देशभर में जब से किसान आंदोलन शुरू हुआ है। नेताओं के तरह तरह के बयान चर्चा में रहे हैं. और अब एक बार फिर से बीजेपी के कार्यकर्ताओं का एक और ढोंग सुर्खियों में है. आपको बता दें कि किसान आंदोलन को चलते हुए 24 दिन से ज्यादा का समय हो चुका है देशभर के किसान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रकट कर रहे हैं।

पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली बॉर्डर पर डेट हुए हैं. सरकार किसानों को समझाने के लिए तरह-तरह के ह’थकंडे आजमा रही है लेकिन किसान अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं उनका कहना है कि जब तक सरकार तीनों काले कानूनों को रद्द नहीं कर देती वह किसी भी कीमत पर अपना आंदोलन खत्म नहीं करेंगे।

SYL के लिए उपवास पर बैठे थे भाजपा नेता किसानों ने खदेड़ा

 

वही अब इसी तरह का एक अजीबोगरीब दृश्य बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा देखने को मिला जो कि लोगों का ध्यान किसान आंदोलन से हटाकर दूसरी तरफ लगाने के लिए किया जा रहा था. जहां एक ओर भारतीय जनता पार्टी शुरू से ही किसान आंदोलन के विरोध में रही है और वहीं अब पार्टी का दूसरा चेहरा भी देखने को मिल रहा है जिसे किसानों ने ढोंग करार दिया है।

दरअसल भाजपा के कार्यकर्ता किसान सम्मेलन आयोजन कर रहे थे और कल पार्टी द्वारा विभिन्न जिलों में उपवास रखने का ऐलान भी किया गया था। बता दें कि एसवाईएल नहर के मुद्दे को लेकर फतेहाबाद में भाजपा कार्यकर्ता एक दिन के उपवास पर बैठे हुए थे. जब इसका किसानों को पता चला तो उन्होंने वहां पहुंचकर पुलिस द्वारा लगाई गई बैरिकेडिंग तो’ड़ दी और भारत माता की जय, नरेंद्र मोदी मु’र्दाबा’द के नारे लगाने लगे।

किसानों के उग्र रूप को देखकर भाजपा के नेताओं को दबे पांव वहां से भागना पड़ा। हालांकि भाजपा नेता और किसानों के बीच झड़प भी हुई जिसके बीच पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बचाव किया. अब किसानों का यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

जिसमें किसान सरकार को काले झंडे दिखाकर विरोध प्रकट कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि सरकार ने भाजपा नेताओं को उपवास के लिए भी शानदार मंच उपलब्ध कराया और हमारे आंदोलन को सिर्फ ला’ठि’यां और आं’सू गै’स के गो’ले मिले। किसानों का यह रो’ष इतना था कि उन्होंने भाजपा नेताओं के तंबू भी उखाड़ फेंकें।