संगीत के बादशाह दिलीप कुमार से ‘ए आर रहमान’ बनने की पूरी कहानी, जिनके बारे में बहुत कम लोगों को पता है

इस्लाम धर्म क़ुबूल करके देश के मशहूर संगीतकार दिलीप कुमार ने अपना नाम (A. R. Rahman) रख लिया था

शायद ही कोई ऐसा होगा जिसे संगीत पसंद ना हो कहते हैं कि संगीत हर किसी को झकझोर कर रख देता है ऐसे में लोगों को जितना भी संगीत सुन्ना पसंद होता है उससे भी कहीं ज्यादा संगीतकार पसंद होता है। लोग अपने पसंदीदा संगीतकारों पर जान लुटाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत के एक ऐसे संगीतकार हैं जिनके संगीत से तो शायद पूरी दुनिया ही परिचित है लेकिन उनकी निजी जिंदगी के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं।

संगीत की दुनिया के सुप्रसिद्ध म्यूजिशियन (A. R. Rahman) को आज कौन नहीं जानता। म्यूजिशियन ए आर रहमान के गाने लगभग हर किसी की जुबान पर रटे रहते हैं। लेकिन ऑस्कर अवार्ड विजेता म्यूजिशियन ए आर रहमान की निजी जिंदगी के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं। इसलिए आज हम आपको बताएंगे इस सुप्रसिद्ध म्यूजिशियन की निजी जिंदगी की कुछ दिलचस्प कहानियां।

दिलीप कुमार से बने थे (A. R. Rahman)

Rahman

बता दें कि आज जिस शख्स को दुनिया ए आर रहमान के नाम से जानती है उनका असली नाम दिलीप कुमार था। ए आर रहमान का जन्म 1967 में चेन्नई में हुआ था। ए आर रहमान का शुरुआती जीवन बहुत संघर्षों से भरा रहा है। ए आर रहमान शुरुआत में इंजीनियर बनना चाहते थे लेकिन बाद में उन्होंने संगीत को अपना लिया।

जब रहमान महज 9 साल के थे तभी उनके पिता उन्हें छोड़कर चले गए। जिसके बाद ए आर रहमान अपनी मां और बहन के साथ रहे थे। बता दें कि हाल ही में ए आर रहमान की मां का भी निधन हो गया है।

ए आर रहमान का नाम पहले दिलीप कुमार था लेकिन एक ज्योतिषी के कहने पर उन्होंने अपना यह नाम बदल लिया था। हालांकि ए आर रहमान को भी अपना यह नाम अच्छा नहीं लगता था ऐसे में ज्योतिषी ने ए आर रहमान की कुंडली देखकर रहमान की बहन को उनका नाम बदलने की सलाह दी।

ऐसे में ए आर रहमान भी नाम बदलने को लेकर तुरंत ही राजी हो गए क्योंकि उन्हें यह नाम खुद पसंद नहीं था।

अपनी बहन के लिए हिंदू से बन गए मुसलमान

आपको बता दें कि दिलीप कुमार से ए आर रहमान बने रहमान ने अपनी बहन के लिए हिंदू से मुसलमान धर्म अपना लिया। उनकी बहन की तबीयत काफी खराब हो गई थी और जब हालत बिगड़ने लगी तो रहमान जगह-जगह प्रार्थना के लिए जाते थे।

ऐसे में उन्होंने मस्जिद का भी दरवाजा खटखटाया जहां अल्लाह ने उनकी दुआ कुबूल की जिसके बाद से ही उनकी बहन की तबीयत ठीक रहने लगी।

ऐसे में बहन की तबीयत ठीक हो जाने के बाद ए आर रहमान ने हिंदू धर्म से मुस्लिम धर्म को अपना लिया। और आज दिलीप कुमार से ए आर रहमान बने रहमान संगीत के क्षेत्र में बुलंदियों पर पहुंच चुके हैं।