VIDEO: शाहीन बाग़ जब गीता, कुरान, बाइबिल और गुरबानी से गूंज उठा हिंदुस्तान, लगे हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे

VIDEO: शाहीन बाग़ जब गीता, कुरान, बाइबिल और गुरबानी से गूंज उठा हिंदुस्तान, लगे हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे

दिल्ली के शाहिन बाग इन दिनों चर्चा में है। यहां लगभग पिछले एक महीनों से नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। इसी कड़ी में 12 जनवरी को एक सर्व धर्म सम्भाव समारोह का आयोजन किया गया। जहां सभी धर्मों के लोग एक साथ आए। बताया जा रहा है कि इस समारोह में प्रदर्शनकारियों ने गीता, बाइबल, और कुरान पढ़ा। इसी के साथ हीं अलग-अलग धर्मों के लोगों ने संविधान की प्रस्तावना को पढ़ा और धर्मनिरपोक्षता की शपथ भी ली।

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर लगभग एक महीनों से यहां प्रदर्शन हो रहा है। रविवार को भी महिला और बच्चे समेत सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने इसमें हिस्सा लिया। लेकिन उन्हें शाहिन बाग में सरिता विहार-कालिंदी कुंज रोड पर रोक दिया गया। शाहिन बाग में सर्व सम्भाव समारोह प्रदर्शन के एक महीने पूरे होने को लेकर ये कार्यक्रम का आयोजन किया गया था।

शाहिन बाग की तीन बुजुर्ग महिलाएं जो इस प्रदर्शन के बाद द’बंग दादी के रूप में जाने जानी लगी है। बता दें कि ये महिलाएं पहले दिन से हीं इस विरोध प्रदर्शन में शामिल हो रही है। सीएए और एनआरसी के खिलाफ शाहीन बाग और जामिया मिलिया इस्लामिया में विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं। सीएए के खिलाफ दिल्ली के अलावा देश के कई हिस्सों में 11 दिसंबर से प्रदर्शन शुरू हुई थी।

इस दौरान यूपी में कई जगहों पर झड़प भी हुई जिसमें 20 लोगों की मौ’त हो गई। विरोध करने वालों का मानना है कि सीएए धर्म के आधार पर भेदभाव पूर्ण कानून लाया गया है जो संविधान का उल्लंघन करता है। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि एनआरसी भारत में मुसलमा’नों को निशाना बनाने के इरादे से बनाया जा रहा है।

 

हालांकि, केंद्र सरकार इन आरोपों को खारिज कर रही है और इसे नागरिकता छी’नने वाला नहीं नागरिकता देने वाला कानून बता रही है। सरकार इस कानून को लेकर देश में डोर टू डोर कैंपेन भी चला रखी है ताकि लोग इस कानून को समझ सके।

Leave a Comment